Kharinews

यूपी की राजनीति में अब्बा जान, तालिबान बने अहम मुद्दे

Sep
14 2021

लखनऊ, 14 सितम्बर (आईएएनएस)। अगले साल की शुरूआत में होने वाले उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनावों की उलटी गिनती शुरू हो गई है। इसी के साथ ही राज्य में शासन और विकास जैसे मुद्दे पीछे हट रहे हैं और अब्बा जान और तालिबान जैसे मुद्दे उत्तर प्रदेश में नए चुनावी मुद्दे के रूप में उभर रहे हैं।

राज्य के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रविवार को कहा था कि 2017 से पहले, अब्बा जान कहने वाले लोग गरीबों के लिए भेजा गया मुफ्त राशन खा जाते थे और भ्रष्टाचार में लिप्त होकर गरीबों के लिए सरकारी नौकरियों पर कब्जा कर लेते थे।

इस भाषण के बाद सीएम योगी अदित्यनाथ के खिलाफ विपक्ष ने जमकर हमला बोला। उन्होंने इस भाषण पर आपत्ति जताते हुए कहा कि अब्बा जान शब्द पिता के प्रेम के तौर पर इस्तेमाल किया जाने वाला शब्द है। इसको लेकर भाजपा राजनीति कर रही है।

हालांकि मुख्यमंत्री ने अपने भाषण में किसी विशेष पार्टी का नाम नहीं लिया था, लेकिन यह स्पष्ट था कि वह समाजवादी पार्टी का जिक्र कर रहे थे क्योंकि उन्होंने पहले एक टीवी कार्यक्रम में समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव को अब्बा जान कहा था।

मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि अखिलेश यादव जैसे नेता पहले अपने मुस्लिम वोट-बैंक को ठेस पहुंचाने के डर से मंदिरों में नहीं जाते थे।

समाजवादी पार्टी के सांसद शफीकुर-रहमान बरक द्वारा तालिबान को स्वतंत्रता सेनानी कहे जाने के बाद तालिबान को कथा में जोड़ा गया।

वहीं इस मामले पर जमकर राजनीति शुरू हो गई है। कांग्रेस नेता कह रहे हैं कि भाजपा नेता अपने हिंदू वोट बैंक को मजबूत करने के लिए उनकी टिप्पणी का उल्लेख कर रहे हैं।

हांलांकि, इन तमाम बातों का नतीजा यह है कि विकास जैसे प्रमुख मुद्दों को ठंडे बस्ते में डाल दिया गया है और लगभग सभी राजनीतिक नेता अब अपनी हिंदू साख स्थापित करने के लिए भाजपा नेताओं के उल्लास के लिए झुक रहे हैं।

इसी कड़ी में, बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के सांसद सतीश मिश्रा ने सबसे पहले अयोध्या का दौरा किया और दावा किया कि मायावती के शासन में भव्य मंदिर बनकर तैयार होगा।

जब मायावती ने हाल ही में लखनऊ में अपनी पार्टी की बैठक को संबोधित किया, तो उनका जय श्री राम के नारों से स्वागत किया गया - बसपा में अब तक इस तरह की कोई बात सुनने में नहीं आई है।

आम आदमी पार्टी (आप) के नेता मनीष सिसोदिया और संजय सिंह ने सोमवार को अयोध्या के विभिन्न मंदिरों में पूजा-अर्चना की, जबकि प्रियंका गांधी वाड्रा ने अपनी हालिया यात्रा के दौरान रायबरेली में एक हनुमान मंदिर का दौरा किया।

भाजपा स्पष्ट रूप से तालिबान के मुद्दे पर राष्ट्रीय सुरक्षा के मुद्दे का इस्तेमाल करते हुए और मुस्लिम तुष्टीकरण पर गैर-भाजपा दलों को कटघरे में खड़ा कर रही है।

पार्टी द्वारा संचालित सोशल मीडिया हैंडल और व्हाट्सएप पर समूहों पर साझा की जा रही सामग्री से पता चलता है कि पिछले दो हफ्तों में लगभग एक चौथाई पोस्ट तालिबान से संबंधित थे, जो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक मजबूत व्यक्तित्व के रूप में संदर्भित कर रहे थे और मुख्यमंत्री को प्रोजेक्ट कर रहे थे। इन ताकतों के खिलाफ योगी आदित्यनाथ एक मजबूत हिंदुत्व ब्रांड के रूप में उभरे हैं।

--आईएएनएस

एसकेके/आरजेएस

Related Articles

Comments

 

सुप्रीम कोर्ट कॉलेजियम ने न्यायमूर्ति बागची को कलकत्ता हाईकोर्ट में तबादले की सिफारिश की

Read Full Article

Subscribe To Our Mailing List

Your e-mail will be secure with us.
We will not share your information with anyone !

Archive