Kharinews

कविता

 

स्वाधीनता अमृत महोत्सव : 'कवि कुछ ऐसी तान सुनाओं ' में सुनाई कविताएं

भोपाल : 25 अगस्त/ स्वाधीनता के अमृत महोत्सव के अंतर्गत "कवि कुछ ऐसी तान सुनाओं" अविस्मरणीय 'काव्य–पाठ' का भव्य आयोजन रबीन्द्रनाथ टैगोर विश्वविद्यालय, भोपाल के 'कथा' सभागार में किया गया।   समारोह की अध्यक्षता करते हुए...

Read Full Article
 

बहुत जरूरी है भाषा के संस्कार पर विमर्श - संतोष चौबे

भोपाल : 18 अगस्त/ वंदना मिश्रा की कविताओं से गुजरते हुए महसूस होता है कि आप स्त्री-मन की संवेदना से गुजर रहे हैं। एक ऐसे भारतीय स्त्री-मन की संवेदना से जिसमें परपंरा से जुड़े रहने...

Read Full Article
 

क़ीमत हमने चुकाई है

नैना शर्मा  क़ीमत हमने चुकाई है, कहीं किसी के सिंदूर की, तो कहीं किसी की शहनाई की क़ीमत हमने चुकाई है।। किसी माली की बगिया उजड़ गई, तो किसी माँ की कोख़ उजड़ गई, अपनी...

Read Full Article
 

'बसो अयोध्या राम' और 'मुक्ति धाम' का लोकार्पण, कहानियों में संवाद का होना बहुत जरूरी - संतोष चौबे

भोपाल : 11 अगस्त/ हिंदी साहित्य जगत के सुप्रतिष्ठित कथाकार स्व. श्री जगन्नाथ प्रसाद चौबे "वनमाली" जी की जयंती के उपलक्ष्य में आईसेक्ट पब्लिकेशन द्वारा हाल ही में प्रकाशित वरिष्ठ रचनाकार एवं वनमाली सृजन केन्द्र,...

Read Full Article
 

"विश्वरंग" के अंतर्गत वनमाली जी की 109वीं जंयती पर संतोष चौबे ने कहा, जीवन का मूल आधार आदर्श होता है

भोपाल : 3 अगस्त/ हिन्दी साहित्य जगत के महत्वपूर्ण कथाकार स्वर्गीय श्री जगन्नाथ प्रसाद चौबे 'वनमाली' जी की 109वीं जयंती पर पुण्यस्मरण:  वनमाली जी कार्यक्रम का आयोजन किया गया। यह आयोजन विश्वरंग के अंतर्गत रबीन्द्रनाथ...

Read Full Article
 

बेटियां

नैना शर्मा क्यों समाज की हर कसौटी पर, कसी जाती हैं बेटियाँ, क्यों हर ग़ुनाह की, गुनहगार होती हैं बेटियाँ, फ़ितरत ही अज़ीब है इस जहाँ की, ग़लत करते हैं बेटे, पर सज़ा भुगतती हैं...

Read Full Article

प्रेमचंद की रचनाओं के किरदार समाज में अभी जिन्दा है - डॉ. राजीव रंजन गिरि

भोपाल : 30 जुलाई/ हमारे समय में परिस्थितियाँ बदलती रहती है। बदली हुई परिस्थितियों में चुनौतियाँ आती रहती है। उन चुनौतियों के समाधान को लेकर हम प्रेमचंद या किसी और रचनाकार के साहित्य के माध्यम...

Read Full Article
 

'साहित्यका विश्वरंग' : साहित्य, कला और संस्कृति से ही मिलता है सही दृष्टिकोण - संतोष चौबे

अमेरिका, इंग्लैण्ड, बेल्जियम, पुर्तगाल, नीदरलैंड्स और भारत के रचनाकारों ने वर्चुअल प्लेट फार्म पर सुनाई रचनाएँ भोपाल : 21 जुलाई/ 'साहित्यका विश्वरंग' के अंतर्गत विश्वरंग, साझा सँसार, हालैण्ड, वनमाली सृजन पीठ दिल्ली और भारतीय ज्ञानपीठ...

Read Full Article

टैगोर राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय में सत्र 2021-2022 के लिए प्रवेश प्रारम्भ

भारत में रंगमंच को प्रोत्साहित करने एवं शिक्षा से जोड़ने हेतु निजी विश्वविद्यालयों में सर्वप्रथम पहल भोपाल : 20 जुलाई/ नाट्य कला में लगभग सभी कलाओं का समावेष होता है। जीवन से जुड़ा कोई भी...

Read Full Article
 

श्रद्धांजलि : महेन्द्र गगन जी आपके जाने से वास्तव में इस धरा पर मिट्टी कम पड़ गई ...

महेन्द्र गगन जी को विश्व रंग, वनमाली सृजन पीठ परिवार एवं सहयोगी संस्थाओं की ओर से अश्रुपूरित विनम्र श्रद्धांजलि... भोपाल : 28 अप्रैल/ कला, साहित्य, संस्कृति, पत्रकारिता और सामाजिक सरोकारों की महत्वपूर्ण शख्सियत वरिष्ठ कवि...

Read Full Article

कोविड-19

 

वैश्विक कोविड-19 मामले बढ़कर 22.9 करोड़ हुए

Read Full Article