Kharinews

अफगानिस्तान पर तालिबान के कब्जे के बाद से पाक रुपया दबाव में

Sep
15 2021

नई दिल्ली, 15 सितंबर (आईएएनएस)। पाकिस्तानी रुपया अब तक के सबसे निचले स्तर पर पहुंच गया है, क्योंकि कुछ विश्लेषकों का मानना है कि अफगानिस्तान में सत्ता परिवर्तन से घरेलू कारकों के अलावा रुपये पर भी असर पड़ रहा है।

अल्फा बीटा कोर के सीईओ खुर्रम शहजाद ने कहा, रुपये पर अतिरिक्त दबाव अफगानिस्तान कारक के कारण है। देश से अमेरिकी सेना की वापसी के बाद तालिबान ने अफगानिस्तान पर नियंत्रण कर लिया है।

द न्यूज ने बताया कि तालिबान द्वारा युद्धग्रस्त देश में सरकार बनाने के बाद सूखे विदेशी सहायता के बीच अमेरिकी मुद्रा की कमी के कारण अफगानिस्तान में डॉलर का बहिर्वाह हुआ है।

पाकिस्तानी रुपया मंगलवार को अब तक के सबसे निचले स्तर पर आ गया, क्योंकि आयातकों ने डॉलर खरीदने के लिए हाथापाई की, जिससे मुद्रा तेजी से बढ़ते चालू खाते के घाटे की चपेट में आ गई।

रिपोर्ट में कहा गया है कि बढ़ते खाद्य आयात बिल और धीमी निर्यात वृद्धि ने रुपये पर जोखिम बढ़ा दिया है और दृष्टिकोण मंदी का बना हुआ है।

विश्लेषकों ने कहा कि आयात में तेज वृद्धि अंतर्राष्ट्रीय जिंस कीमतों, विशेष रूप से तेल और मजबूत घरेलू मांग से प्रेरित है।

रिपोर्ट के मुताबिक, फाउंडेशन सिक्योरिटीज के विश्लेषक मुहम्मद अवैस अशरफ ने कहा, उच्च कमोडिटी कीमतों के बीच आर्थिक गतिविधियों में तेजी के कारण आयात पिछले तीन महीनों में दूसरी बार 6 अरब डॉलर के निशान को पार कर गया और पिछले छह महीनों के लिए 5 अरब डॉलर के निशान से ऊपर रहा। इसने एसबीपी (स्टेट बैंक ऑफ पाकिस्तान) के रूप में रुपये पर दबाव डाला। इसका इस्तेमाल रक्षा की पहली पंक्ति के रूप में किया जा रहा है।

अकेले अगस्त में पाकिस्तान का व्यापार घाटा सालाना आधार पर 133 प्रतिशत बढ़कर 4.05 अरब डॉलर हो गया। चालू वित्तवर्ष के पहले दो महीनों में यह 114 प्रतिशत बढ़कर 7.32 अरब डॉलर हो गया।

अगस्त में आयात 89.9 फीसदी बढ़कर 6.31 अरब डॉलर हो गया, जबकि इसी महीने निर्यात 42.5 फीसदी बढ़कर 2.25 अरब डॉलर हो गया।

--आईएएनएस

एसजीके/एएनएम

Related Articles

Comments

 

सुप्रीम कोर्ट कॉलेजियम ने न्यायमूर्ति बागची को कलकत्ता हाईकोर्ट में तबादले की सिफारिश की

Read Full Article

Subscribe To Our Mailing List

Your e-mail will be secure with us.
We will not share your information with anyone !

Archive