Kharinews

बिरादर..! तुम्हारी जाति क्या है?

Apr
22 2018

जयराम शुक्ल

जबलपुर के सांसद राकेश सिंह मध्यप्रदेश भारतीय जनता पार्टी के नए अध्यक्ष मनोनीत किए गए।  उनके नाम की चर्चा चल ही रही थी, उसी बीच मैंने चार लाइन की एक छोटी सी पोस्ट डाल दी कि जबलपुर साइंस कालेज में वे मेरे सहपाठी रहे हैं, छात्र राजनीति में वे बहुत ही शालीन व अच्छे कंपेनर रहे हैं। इसके बाद पत्रकार मित्रों में मुझसे यह जानने की होड सी मच गई कि राकेश सिंह की जाति क्या है? उनके चयन के पीछे की जातीय गणित क्या है..आदि,आदि। उनकी जाति पर आएं उससे पहले...!

बात सन् 80 की है तब वे प्रहलाद पटेल के अनुयाई थे। आज की तारीख में वे शायद ही मुझे जाने या पहचाने,  जब उन्हें 2003-4 में प्रह्लाद पटेल और उमाभारती की पैरवी पर टिकट मिली और सांसद बन गए तो उस जमाने के एक मित्र जो राकेश के सेक्शन के ही थे(आज बड़े अधिकारी हैं)ने चहककर बताया था कि "यार अपना घनश्याम तो सांसद बन गया।" तभी पता चला कि अपने कालेज के घनश्याम ही जबलपुर की राजनीति के राकेश(चंद्रमा बन गए)।

राकेश से मेरी कभी निकटता भी नहीं रही क्योंकि मैं डे-स्कालर होने के नाते स्वाभाविक तौर पर सिटीपैनल वाला था और वे हास्टलर थे जिस पैनल के नेता प्रहलादजी हुआ करते थे। सिटीपैनल के एकछत्र नेता लखन घनघोरिया थे(जो 2008 में जबलपुर सुरक्षित सीट से काँग्रेस के विधायक भी बने)। मैं जब एमएससी प्रीवियस में पढ़ रहा था तो सहपाठियों ने मुझे निर्विरोध सीआर बना दिया।

जबलपुर की छात्र राजनीति के जितने मजे थे उतने डर भी। न जाने कब कहाँ बका-बम संग्राम शुरू हो जाए। बहरहाल यूआर चुनने के लिए सीआरों को पकड़वाया जाता था। लेकिन उसे आप अपहरण नहीं कह सकते, क्योंकि वोटिंग के पहले तक अच्छी खातिरदारी होती थी, मारपिटाई, धमकाना तो कतई नहीं। ज्यादा संशय हुआ तो वोट नहीं ड़ालने देते थे, इससे ज्यादा कुछ नहीं। सो चूँकि मैं एक वोट था इसलिए दोनों पैनलों की नजर मुझपर थी। रोमांच इतना कि मैं खुदको पकड़वाए जाने को बेताब था। एक दिन बीत गए किसी पैनल वाले ने घास नहीं डाली।

दूसरे दिन कैंटीन में अपनी समोसा पार्टी चल रही थी तभी हास्टल पैनल के दो बंदे आए बोले- चलिए आपको प्रहलादजी बुला रहे हैं। इस रोमांच के लिए तैयार ही बैठा था। उनके साथ हास्टल पहुँचा। एक कमरे में हास्टल पैनल के सभी जोधा आगे की रणनीति बना रहे थे। मुझे प्रहलाद जी जानते थे सो कहा कि- अच्छा शुक्लाजी को पकड़ लाए हो, ये तो वैसे भी मेरे साथ हैं। जबकि वास्तविकता यह थी कि मैं जमकर सिटी पैनल के साथ था। यह प्रहलादजी की सदाशयता या राजनीति का अंदाज था जिसका मैं पहली बार कायल हुआ। जहाँ तक मुझे याद है इसी चुनाव में राकेश सिंह को विश्वविद्यालय प्रतिनिधि चुना गया था।

अब मूल बात पर आएं जिसके लिए इतनी भूमिका रची। राकेश सिंह के प्रदेश भाजपा अध्यक्ष मनोनीत होने के साथ ही राजधानी के मीडियाजगत के मित्रों के फोन आने शुरू हुए। प्रायः सभी ने एक ही जानकारी चाही- राकेश सिंह किस जाति से हैं। ओबीसी हैं या ठाकुर, आजकल अजाजजा वाले भी सिंह लिखते हैं, कहीं ये गोंडबैगा तो नहीं। किसी ने यह नहीं पूछा कहां तक पढ़े हैं। पढ़ने में कैसे थे। परिवार से धनी हैं या निर्धन, और भी क्या विशेषताएं हैं। सभी उनकी जाति जानना चाहते थे। कुछ तो "फोनो" पर भाजपा संगठन के जातीय संतुलन पर चर्चा करना चाहते थे। कुछ ने आपनी ओर से जानकारी देदी- देख लिया न भाजपा किस स्तर तक उतर आई कि परशुराम जयंती पर एक हैहैवंशीय का राजतिलक कर दिया। जानकारी देने वाले एक ब्राह्मण पत्रकार ही थे जो इसी बहाने मेरे सोए ब्राह्मणत्व को जगाना चाहते थे।
छात्र जीवन में कभी जानने की जरूरत ही नहीं पड़ी कि कौन किस जाति से है। ये तो बहुत बाद में जाना कि प्रहलादजी पिछड़ेवर्ग के लोधी हैं और लखन घनघोरिया अनुसूचित जाति के खटिक। छात्र जीवन में और उसके बाद भी इन दोनों और उस जमाने के न जाने इतने ही कितनों को बड़े आदर भाव से देखते रहे हैं। आज हमारे वे सबके सब युवातुर्क- आयकन कुनबी-काछी-बामह्न-ठाकुर-दलित-अजाजजा हो गए। उनकी खासियत उनका मानवियोचित गुण नहीं जाति हो गई। मै वाकय नहीं जानता कि राकेश सिंह ठाकुर हैं कि पिछड़ा जिसकी बहस भाई लोग मीडिया में छेड़े हुए हैं।

 मैंने एक मित्र से पूछा कि ऐसी क्या आन पड़ी कि नए प्रदेश अध्यक्ष की जाति जानना जरूरी हो गया। मित्र ने लाजवाब करने वाली बात कही- कि एक जाति-पाँति-धर्म-संप्रदाय की दुहाई न देकर विनम्रता से चुनावी हार स्वीकार कर लेने वाले पंडित दीनदयाल उपाध्याय थे दूसरे ये सबका साथ, सबका विकास का खयाली नाराजाल फेंक कर समाज को जातियों, उपजातियों, दलितों, अतिदलितों के खाँचे में बाँटकर चुनाव की राजनीति करने वाले ढो़गी लोग ! क्या करिएगा हम मीडिया वाले भी इसी बजबजाती सडाँध से खबर निकालने के लिए मजबूर हैं।

राजनीति का ये सामाजिक पतन पिछले दो दशक से और तेज हुआ है। जिस जबलपुर से बात शुरू की मैं उसे साझी संस्कृति में जीने वाला दुनिया का सबसे अद्भुत शहर मानता रहा हूँ। जिसने अपना विचार दर्शन अपनी संस्कृति से देश नहीं दुनिया को जगमागाया। आचार्य रजनीश ने सभी धर्मों-पंथों के समानांतर एक अलग पंथ ही गढ़कर सामने रख दिया। ऐसा क्रांतिकारी विचारक और दार्शनिक पिछली कई शताब्दियों में नहीं हुआ। महर्षि महेश योगी.. सारी दुनिया जिनके भावातीत ध्यान से मुग्ध है। द्वारिका प्रसाद मिश्र कन्नौज से आए और काफी बाद मुंदर शर्मा बिहार से दोनों को सिर माथे पर बिठाया। मिश्रजी प्रदेश के मुख्यमंत्री बने और शर्माजी सांसद व प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष। 52से75 तक सेठ गोविंददास लोकसभा में सदस्य रहे, दशकों बाद लोगों ने जाना ये मारवाड़ी थे। उसी तरह गुजराती परमानंद भाई पटेल को। शरद यादव तो बाबइ से पढ़ने आए थे, यहां की जनता ने काँग्रेस के खिलाफ इन्हें चुनकर जेपी आंदोलन को धारदार बनाया।

इस जबलपुर ने सबको अपनाया, गले लगाया। दुर्गापूजा हो तो लगे कहां बंगाल में आ गए। गणेश चतुर्थी आए तो मानो पुणे-मुंबई उतर आया हो। दशहरा की शान ही निराली। मोहर्रम के ताजिए हिंदुओं के कंधे पर। ओणम-पोंगल आया तो दक्षिण भारत के दर्शन यहीं कर लीजिए। जबलपुर देश का दिल है यहीं से सभी धमनी शिराएं निकलकर जाती हैं। उस जबलपुर का अब हाल यह कि कौन किस जाति का है? किसके कुलके कहाँ कितने वोट हैं। अफसोस कि अपनी संस्कारधानी को भी खुदगर्ज राजनीति ने जातीय विष से बुझाकर रख दिया।

राकेट और कंप्यूटरयुग में राजनीति का यह रूप भी देखने को मिलेगा किसने कल्पना की होगी। आज क्या कोई इंदौरवासी यकीन के साथ कह सकता है कि यहाँ की राजनीति में कभी कोई दूसरा होमी दाजी भी पैदा हो सकता है, एक पारसी जिसकी जाति के मुश्किल से सौ वोट भी नहीं। अपने सतना से कांताबेन पारेख विधायक रहीं, गिनिए यहाँ कितने गुजराती वोट हैं, मुश्किल से पाँच सौ। बैरिस्टर गुलशेर अहमद जिस अमरपाटन से जीतते थे वहां मुश्लिम कितने, ज्यादा से ज्यादा पाँच परसेंट। वे सांसद स्पीकर,गवर्नर रहे। क्या अब कभी कोई मुश्लिम सतना से जीत सकेगा? जहाँ भोपाल से आकर अजीज कुरैशी जैसे अल्पग्यात काँग्रेसी जीत के लोकसभा गए। अब तो इन्हें कांग्रेस भी टिकट नहीं देती, भाजपा का तो सवाल ही नहीं उठता।

इससे ज्यादा तकलीफ की बात और क्या कि प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति तक को जातीय तुलापर तौला जाने लगा है और इस बात से उनको खुद को भी कोई गुरेज नहीं। टिकटार्थियों के बायोडाटा का सबसे अहम् हिस्सा यही होता है कि उसके क्षेत्र में उसकी जाति के वोटों की स्थाति क्या है। मुख्यमंत्री, मंत्रियों के फैसलों में जातीय पक्षधरता झलकने लगी है। कास्ट-क्रीड-रेस-रिलीजन से उपर उठकर संविधान की शपथ लेने वाले लोग पद पर बैठने के साथ ही इसी में बिंध जाते हैं। राजनीतिक संगठनों में तो जाति ही एकमात्र सारतत्व है।

 देश एक खतरनाक वर्गसंघर्ष की ओर जा रहा है। जो नीति-नियंता हैं उनका एक ही मंत्र, आज जो है उसे भोगो, कल की कल वाला जाने..। किसको कहें मसीहा किस पर यकीं करें..?

Category
Share

About Author

जयराम शुक्ल

लेखक वरिष्ठ पत्रकार एवं साहित्यकार हैं.
jairamshuklarewa@gmail.com

Related Articles

Comments

 

फ्यूचर्स एंड ऑप्शंस, फेड के फैसले का शेयर बाजार पर रहेगा असर

Read Full Article

Subscribe To Our Mailing List

Your e-mail will be secure with us.
We will not share your information with anyone !

Archive