Kharinews

ऋषिगंगा झील का जलस्तर 1 फुट तक कम हुआ

Feb
24 2021

देहरादून, 24 फरवरी (आईएएनएस)। ग्रामीणों के सहयोग से एसडीआरएफ के जवानों ने उत्तराखंड की ऋषिगंगा झील के निर्वहन क्षेत्र को चौड़ा करने में कामयाबी हासिल की है। इसके परिणामस्वरूप झील का जलस्तर एक फुट तक कम हो गया है। वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों ने बुधवार को इसकी जानकारी दी।

पिछले कुछ दिनों से ग्रामीणों ने कुछ पेड़ों को उखाड़ने और अधिक पानी छोड़ने के लिए झील के डिस्चार्ज क्षेत्र को चौड़ा करने के उद्देश्य से राज्य आपदा प्रतिक्रिया कोष (एसडीआरएफ) के कर्मियों से हाथ मिलाया है।

उन्होंने कहा कि ऐसा करने से डिस्चार्ज एरिया 20 से 50 फीट चौड़ा हो जाता है, जिससे झील का जल स्तर एक फीट से ज्यादा नीचे आ जाता है।

चमोली जिले में अशांत ऋषिगंगा नदी के जलग्रहण क्षेत्र में झील बनने के बाद एसडीआरएफ के जवान अलर्ट पर हैं। 7 फरवरी को जल प्रलय के कारण कई लोगों की जान चली गई थी। झील 14,000 फीट की ऊंचाई पर बनाई गई है।

एसडीआरएफ कमांडेंट नवनीत भुल्लर ने कहा कि एसडीआरएफ के जवानों को भी ऋषिगंगा झील के किनारे पांग और अन्य क्षेत्रों में तैनात किया गया है। इसके अलावा, झील के किनारे अलर्ट सेंसर और एक त्वरित तैनाती एंटीना (क्यूडीए) भी स्थापित किया गया है। क्यूडीए के माध्यम से, एसडीआरएफ ने देहरादून से झील क्षेत्र के साथ वीडियो संचार स्थापित किया है।

बढ़ती आशंकाओं के बीच उत्तराखंड सरकार ने पहले सैटेलाइट इमेज के बाद चेतावनी दी थी कि 7 फरवरी के बाद ऋषिगंगा नदी के जलग्रहण क्षेत्र में झील का निर्माण हो गया है। इसने एनटीपीसी के 520 मेगावॉट तपोवन-विष्णुगाड हाइडल प्रोजेक्ट को काफी हद तक नुकसान पहुंचाने के अलावा 13.2 मेगावॉट ऋषिगंगा हाइडल को पूरी तरह से नष्ट कर दिया था।

झील लगभग 750-800 मीटर लंबी है और इसकी गहराई 7-8 मीटर है। इससे लगातार हो रहे डिस्चार्ज के बाद अधिकारियों ने कहा कि इससे अब कोई खतरा नहीं है।

सरकार ने विस्तृत रिपोर्ट तैयार करने के लिए वाडिया इंस्टीट्यूट ऑफ हिमालयन जियोलॉजी, जियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया और डीआरडीओ के वैज्ञानिकों को भी झील पर भेजा है। 7 फरवरी के प्रलय के बाद 205 से अधिक व्यक्ति लापता हो गए।

--आईएएनएस

एसआरएस/एएनएम

Related Articles

Comments

 

बंगाल चुनाव : छठे चरण में हिंसा की छिटपुट घटनाओं के बीच 79 फीसदी मतदान

Read Full Article

Subscribe To Our Mailing List

Your e-mail will be secure with us.
We will not share your information with anyone !

Archive