Kharinews

जलमार्ग के माध्यम से संपर्क का विस्तार करने के लिए उच्च स्तरीय वार्ता करेंगे भारत और बांग्लादेश

Oct
18 2021

महुआ वेंकटेश

नई दिल्ली और ढाका, जिन्होंने द्विपक्षीय संबंधों को बढ़ावा देने पर जोर दिया है, अगले कुछ हफ्तों में जलमार्गों को जोड़ने पर चर्चा करेंगे।

यह चर्चा समग्र अभ्यास के उस हिस्से के रूप में होगी, जिसका उद्देश्य मल्टी-मॉडल कनेक्टिविटी में सुधार करना है।

दोनों सरकारें एक रोल ऑन रोल ऑफ सेवा शुरू करने पर भी विचार कर रही हैं, जो चार पहिया कारों और जहाजों से जाने वाले ट्रकों सहित वाहनों को ले जाने की सुविधा प्रदान करती है। ढाका से एक उच्च स्तरीय प्रतिनिधिमंडल इस महीने के अंत तक नई दिल्ली का दौरा करने वाला है। इस दौरान सीमा पार शॉर्ट हॉल व्यापार और जलमार्गों को तटीय नौवहन से जोड़ने से संबंधित मुद्दों पर भी चर्चा की जाएगी।

भारत और बांग्लादेश गंगा और ब्रह्मपुत्र सहित 54 ट्रांसबाउंड्री नदियों को भी साझा करते हैं।

सूत्रों ने इंडिया नैरेटिव को बताया कि बांग्लादेश में हिंदू मंदिरों और दुर्गा पूजा पंडालों पर हालिया हमले राजनीतिक रूप से प्रेरित हैं और इसका उद्देश्य दोनों सरकारों के संबंधों को गहरा करने के मौजूदा जोर को खत्म करना हो सकता है।

कट्स/सीयूटीएस इंटरनेशनल (उपभोक्ता एकता और ट्रस्ट सोसायटी इंटरनेशनल) के कार्यकारी निदेशक बिपुल चटर्जी ने इंडिया नैरेटिव को बताया, ये राजनीतिक और अस्थायी मामले हैं। मुझे नहीं लगता कि दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय सौदों पर कोई असर पड़ेगा। व्यापार सहित हमारे द्विपक्षीय संबंध मजबूत हैं और आने वाले वर्षों में और भी मजबूत हो जाएंगे, क्योंकि बांग्लादेश अब एलडीसी (संयुक्त राष्ट्र के सबसे कम विकसित देशों) की सूची से बाहर निकलने के लिए तैयार है।

मार्च में प्रकाशित विश्व बैंक की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत और बांग्लादेश के बीच निर्बाध परिवहन संपर्क में ढाका और नई दिल्ली की राष्ट्रीय आय में क्रमश: 17 प्रतिशत और 8 प्रतिशत की वृद्धि करने की क्षमता है।

रिपोर्ट के अनुसार, भारत में विश्व बैंक के कंट्री डायरेक्टर जुनैद अहमद ने कहा, पूर्वी उप-क्षेत्र दक्षिण एशिया के लिए एक आर्थिक विकास ध्रुव बनने की ओर अग्रसर है। इस विकास क्षमता का एक महत्वपूर्ण घटक देशों के लिए कनेक्टिविटी - रेल, अंतदेर्शीय जलमार्ग और सड़कों में निवेश करना है।

इस बात पर प्रकाश डालते हुए कि अंतर्देशीय जलमार्गों के माध्यम से सीमा पार व्यापार भारत और बांग्लादेश में नदी समुदायों की आजीविका का समर्थन कर सकता है, सीयूटीएस इंटरनेशनल ने कहा है कि दक्षिण एशिया दुनिया के सबसे कम एकीकृत क्षेत्रों में से एक है, जो विश्व व्यापार का केवल 2 प्रतिशत और प्रत्यक्ष विदेशी निवेश का 1.7 प्रतिशत आकर्षित करता है।

(यह आलेख इंडियानैरेटिव डॉट कॉम के साथ एक व्यवस्था के तहत लिया गया है)

--इंडियानैरेटिव

एकेके/एएनएम

Related Articles

Comments

 

मुंबई में 35 करोड़ रुपए के फर्जी इनपुट टैक्स क्रेडिट रैकेट का भंडाफोड़ किया गया

Read Full Article

Subscribe To Our Mailing List

Your e-mail will be secure with us.
We will not share your information with anyone !

Archive