Kharinews

बंगाल सरकार ने पुलिस व प्रशासन से कहा, बांग्लादेश में हिंसा के बाद सतर्क रहें

Oct
18 2021

कोलकाता, 18 अक्टूबर (आईएएनएस)। बांग्लादेश में सांप्रदायिक अशांति के बाद राज्य के खुफिया विभाग द्वारा अलर्ट जारी किए जाने के अगले दिन, ममता बनर्जी के नेतृत्व वाली पश्चिम बंगाल सरकार ने सोमवार को प्रशासन और पुलिस को सतर्क रहने और राज्य में किसी तरह की सांप्रदायिकता फैलाने की अनुमति किसी को नहीं देने का निर्देश दिया।

राज्य सरकार ने सभी पुलिस कमिश्नरियों, अतिरिक्त सीपी, एसपी, डीआईजी और आईजीपी, उत्तर बंगाल के आईजी (आईबी), क्षेत्रीय आईजी, एडीजी और रेलवे के डीजीपी को लिखित निर्देश भेजकर सतर्क रहने और कोई अप्रिय घटना होने पर तत्काल कार्रवाई करने का आग्रह किया है।

मंगलवार को फतेहा-दावाज-दहम है और जिला प्रशासन को संवेदनशील इलाकों पर कड़ी नजर रखने के लिए कहा गया है। सभी सीमावर्ती जिलों को हाई अलर्ट पर रखा गया है। जिलाधिकारियों और एसपी को सभी को निर्देश देने के लिए कहा गया है। राज्य के गृह विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, किसी भी तरह के भड़काऊ या सांप्रदायिक संदेशों के प्रसार से सख्ती से निपटा जाएगा।

राज्य सरकार के निर्देश राज्य के खुफिया विभाग द्वारा रविवार को अलर्ट जारी किए जाने के बाद आए हैं। बांग्लादेश में नोआखाली और चटगांव जिलों में मंदिरों और दुर्गा पूजा पंडालों में तोड़फोड़ और आगजनी की घटनाओं के मद्देनजर पश्चिम बंगाल में दुर्गा की मूर्तियों के विसर्जन और फतेहा-दावाज-दहम पर विचार करते हुए राज्य के खुफिया विभाग ने एक अलर्ट जारी किया था। किसी भी प्रकार की अप्रिय घटना से बचने के लिए सभी जिलों, विशेषकर सीमावर्ती इलाकों को सतर्क करते हुए अधिकारियों को संवेदनशील बने रहने के लिए कहा गया है।

अलर्ट ने कहा गया था, 13 अक्टूबर के बाद से बांग्लादेश में दुर्गा पूजा पंडालों की तोड़फोड़ की पोस्टों से सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म भर गए हैं। इन मुद्दों को केंद्रित करते हुए सीमावर्ती जिले अति संवेदनशील हो गए हैं और विभिन्न हिंदू कट्टरपंथी संगठनों के नेता सक्रिय हो गए हैं और अपनी बात प्रेस को पहुंचा रहे हैं और बांग्लादेश की प्रधानमंत्री से वहां के सनातनी लोगों को तत्काल राहत देने के लिए आवश्यक कदम उठाने का आग्रह कर रहे हैं।

आगे कहा गया है, यहां यह उल्लेख करना उचित है कि पश्चिम बंगाल में दुर्गा मूर्तियों का विसर्जन शुरू हो चुका है और यह 18 अक्टूबर तक चलेगा, जबकि मुस्लिम त्योहार फतेहा-दावाज-दहम 18 और 19 अक्टूबर को आयोजित होने वाला है।

अधिकारी ने कहा, हम राज्य में किसी भी तरह की सांप्रदायिक अशांति को बर्दाश्त नहीं करेंगे और सभी जिला प्रशासन और पुलिस को किसी भी तरह की सांप्रदायिक स्थिति से सख्ती से निपटने के लिए कहा गया है।

--आईएएनएस

एसजीके/एएनएम

Related Articles

Comments

 

मुंबई में 35 करोड़ रुपए के फर्जी इनपुट टैक्स क्रेडिट रैकेट का भंडाफोड़ किया गया

Read Full Article

Subscribe To Our Mailing List

Your e-mail will be secure with us.
We will not share your information with anyone !

Archive