Kharinews

वैक्सीन राष्ट्रों के लिए प्रवेश में बाधा नहीं बननी चाहिए : भारत बायोटेक

Sep
22 2021

नई दिल्ली, 22 सितम्बर (आईएएनएस)। हैदराबाद स्थित भारत बायोटेक की सह-संस्थापक और संयुक्त प्रबंध निदेशक सुचित्रा एला ने कहा है कि वैक्सीन किसी भी राष्ट्र में प्रवेश करने में बाधा नहीं बननी चाहिए।

ब्रिटेन के नए यात्रा प्रतिबंधों पर चल रहे क्रम के बीच, जो पूरी तरह से भारतीय टीकाकरण को भी गैर-टीकाकरण की तरह मान रहे हैं और उनके लिए 10 दिवसीय क्वारंटीन निर्धारित कर रहे हैं, उन्होंने कहा, टीके राष्ट्रों के लिए प्रवेश अवरोध नहीं होने चाहिए।

यह रेखांकित करते हुए कि भारत ने दुनिया भर में कोविड-19 वैक्सीन की अरबों खुराक की आपूर्ति की है, सुचित्रा एला ने ट्वीट किया, हमारे टीके एक बार फिर साबित करेंगे कि वे विश्व स्तर के हैं।

यूके के नए नियमों के अनुसार, जिन भारतीय यात्रियों को सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (एसआईआई) द्वारा निर्मित कोविशील्ड वैक्सीन की दोनों खुराक प्राप्त हुई है, उन्हें गैर-टीकाकरण माना जाएगा और उन्हें 10 दिनों के लिए क्वारंटीन अवधि से गुजरना होगा, हालांकि भारत द्वारा कड़ी आपत्ति जताए जाने के बाद यूके ने कोविशील्ड को एक स्वीकृत वैक्सीन के रूप में शामिल करने के लिए अपनी यात्रा नीति में संशोधन किया है।

भारत बायोटेक की सह-संस्थापक ने ट्वीट किया, हमारे टीके फिर से साबित होंगे कि वह विश्व स्तर के हैं। भारत ने दुनिया भर में अरबों खुराक की आपूर्ति की है। कोविड-19 ने हमें जीवन के पर्याप्त सबक सिखाए हैं, जब एनआरए ने मंजूरी दी है तो टीके राष्ट्रों के लिए प्रवेश बाधा नहीं होनी चाहिए। लाइसेंस प्राप्त, 80 करोड़ खुराक को पार किया और यह कोई छोटी उपलब्धि नहीं है।

भारत का सामूहिक टीकाकरण कार्यक्रम मुख्य रूप से दो टीकों कोविशील्ड और कोवैक्सिन के साथ चलाया जा रहा है। हैदराबाद स्थित भारत बायोटेक ने भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद के सहयोग से कोवैक्सीन टीका विकसित किया है। कोविशील्ड को ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय और फार्मा दिग्गज एस्ट्राजेनेका के शोधकतार्ओं द्वारा विकसित किया गया है।

हालांकि, डब्ल्यूएचओ की मुख्य वैज्ञानिक डॉ. सौम्या स्वामीनाथन ने कहा है कि सभी देशों को डब्ल्यूएचओ की सिफारिशों का पालन करना चाहिए। आईएएनएस से बात करते हुए, डब्ल्यूएचओ के मुख्य वैज्ञानिक ने कहा, इस पर डब्ल्यूएचओ की स्थिति स्पष्ट है कि सभी देशों को ईयूएल टीकों को पहचानना चाहिए। सभी देशों को हमारी सिफारिशों का पालन करना चाहिए। वे बाध्यकारी नहीं हैं।

--आईएएनएस

एकेके/आरजेएस

Related Articles

Comments

 

चीन के अवैज्ञानिक दृष्टिकोण के कारण भारतीयों की चीन यात्रा पर रोक

Read Full Article

Subscribe To Our Mailing List

Your e-mail will be secure with us.
We will not share your information with anyone !

Archive