बिहार : रुपौली उपचुनाव के लिए महागठबंधन में फंसा पेंच

0
14

पटना, 15 जून (आईएएनएस)। बिहार के पूर्णिया जिले के रुपौली विधानसभा में होने वाले उपचुनाव के लिए सरगर्मी बढ़ गई है। दोनों गठबंधन इस सीट पर चुनाव जीत कर विधानसभा में अपनी संख्या बढ़ाना चाहता है।

इस बीच, इस सीट को लेकर महागठबंधन के घटक दलों में उम्मीदवारी को लेकर पेंच फंसता दिखाई दे रहा है। हालांकि, राजद मजबूती से चुनाव मैदान में उतरने की बात कर रही है।

एनडीए की ओर से जदयू ने इस सीट से कलाधर मंडल को उम्मीदवार बनाने की घोषणा कर दी है लेकिन, महागठबंधन की ओर से कौन घटक दल चुनाव लड़ेगा, इसकी घोषणा नहीं की गई है।

इस सीट पर राजद और भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (भाकपा) ने अपनी-अपनी दावेदारी पेश की है। भाकपा ने अपनी दावेदारी पेश करते हुए कहा कि रूपौली विधानसभा में होने वाले उपचुनाव में पार्टी अपना उम्मीदवार उतारेगी।

भाकपा के राज्य सचिव रामनरेश पांडेय ने कहा कि यह फैसला पार्टी की 11 जून को संपन्न राज्य परिषद की बैठक में लिया गया।

बताया गया कि 2020 के बिहार विधानसभा चुनाव में महागठबंधन से छह सीट भाकपा को मिली थी जिसमें रूपौली विधानसभा क्षेत्र भी था। रूपौली विधानसभा उपचुनाव के लिए 10 जुलाई को मतदान होगा।

इधर, राजद ने रूपौली से अपनी दावेदारी पेश कर दी है। राजद प्रवक्ता एजाज अहमद की मानें तो उपचुनाव में राजद अपना प्रत्याशी उतारेगा। उन्होंने हालांकि यह भी कहा कि यहां मजबूत लड़ाई लड़ी जाएगी। एक-दो दिन में प्रत्याशी के नाम की घोषणा हो जाएगी। कहीं कोई तनातनी नहीं है।

रुपौली की सीट जदयू से विधायक रही बीमा भारती के इस्तीफे के बाद खाली हुई थी। राजद के टिकट पर बीमा पूर्णिया लोकसभा से चुनाव लड़ीं और हार गईं।

इस बीच, बीमा भारती ने भले ही रूपौली से अपनी दावेदारी नहीं पेश की है, लेकिन उनके पति अवधेश मंडल चुनाव लड़ने की बात कर रहे हैं। बताया जाता है कि वे राजद से चुनाव लड़ सकते हैं।

पिछले चुनाव में जदयू की बीमा भारती ने भाकपा के विकासचंद्र मंडल को करीब 19 हजार मतों से पराजित किया था। बतौर निर्दलीय कलाधर मंडल भी चुनावी मैदान में उतरे थे और उन्हें छह हजार से अधिक मत प्राप्त हुए थे।