Kharinews

विश्वरंग की अंतर्राष्ट्रीय समिति का गठन, तय किये गए आगे के कार्यक्रम

Dec
19 2019

भोपाल: 19 दिसम्बर/ रबीन्द्रनाथ टैगोर विश्व विद्यालय द्वारा आयोजित टैगोर अंतर्राष्ट्रीय साहित्य एवं कला महोत्सव 'विश्वरंग’ के भोपाल में सफल आयोजन के बाद इसके विस्तार एवं देश विदेश में विभिन्न कार्यक्रमों के बीच संयोजन के लिए रबीन्द्रनाथ टैगोर विश्व विद्यालय के कुलाधिपति संतोष चौबे की अध्यक्षता में एक
अंतर्राष्ट्रीय समिति का गठन किया गया है। इसमें लगभग 20 देशों के प्रतिनिधि शामिल होंगे।

इसमें माॅस्को (रूस) से इंदिरा गाजिएवा और ल्यूदमिला ख़खलोवा, जर्मनी से प्रो. डाॅ. तत्याना ओरान्स्कया, (हैम्बर्ग), उज्बेकिस्तान से डाॅ. सिराजुद्दीन नुर्मातोव (ता-रु39याकंद), कज़ाकिस्तान से डाॅ. दरीगा कोकोएवा (अल्माटी), यूक्रेन से यूरी बोत्वींकिन (कीव), अर्मेनिया से ऋपसिमे नेर्सिस्यान (येरेवान) इज़राइल से डाॅ. गेनेदी -रु39यलोम्पेर (तेल अबीब), श्रीलंका से प्रो. उपुल रंजीत (कलवीय), फीजी से प्रो. सुब्रमनी (सूबा), इंग्लैण्ड से तेजेन्द्र -रु39यार्मा (लंदन), दिव्या माथुर (लंदन), ऊ-ुनवजयाा राजे सक्सेना (लंदन), ललित मोहन जो-रु39याी (लंदन), डाॅं वंदना मुके-रु39या (नाटिंघम), जय वर्मा (बर्मिंघम), अमेरिका से डाॅ. सु-ुनवजयाम बेदी (न्यूयार्क), कविता वाचक्नवी (डलास), रेखा मैत्र (कैलिफोर्निया), उमे-रु39या ताम्बी (फिलाडेल्फिया), अ-रु39याोक सिंह (न्यूयार्क), अनूप भार्गव (न्यूजर्सी), मनी-ुनवजया गुप्ता (सिएटल), कनाडा से महेन्द्र धर्मपाल (टोरंटो), आॅस्ट्रेलिया से भावना कुँवर (सिडनी), रेखा राजवंशी (सिडनी), संजय अग्निहोत्री (सिडनी), सिंगापुर से संध्या सिंह (सिंगापुर), डेनमार्क से डाॅ. अर्चना पैन्युली (कोपेनहैगेन), नीदरलैंड से डाॅ. शजयपता अवस्थी (एम्सटर्डम), डाॅ. रामा तक्षक, (एम्सटर्डम), कुवैत से जितेन्द्र चैधरी (कुवैत सिटी), को शामिल किया गया है। उपरोक्त अंतर्राष्ट्रीय समिति से सहयोग के लिए भारत से भी एक 27 सदस्यीय समूह का गठन किया गया है, जो साहित्य, संस्कृति, शिक्षा एवं प्रशासन के विभिन्न क्षेत्रों का प्रतिनिधित्व करता है।

इस समूह में संतोष चौबे (भोपाल), मुकेश वर्मा (भोपाल), बलराम गुमास्ता (भोपाल), महेन्द्र गगन (भोपाल), डाॅ. अनुराग सीठा (भोपाल), आत्माराम शर्मा (भोपाल) लीलाधर मंडलोई (नई दिल्ली), डाॅ. कमल किशोर गोयनका (नई दिल्ली), विनय उपाध्याय (भोपाल), डाॅ. सच्चिदानंद जोशी (नई दिल्ली), डाॅ. उषा गांगुली (कोलकाता), देवेन्द्रराज अंकुर (नई दिल्ली), अशोक भौमिक (नई दिल्ली), डाॅ. रमेश चंद्र शाह (भोपाल), प्रभु जोशी (इंदौर), सिद्वार्थ चतुर्वेदी, अदिति चतुर्वेदी, पल्लवी राव चतुर्वेदी, नितिन वत्स, डाॅ. विजय सिंह, नुसरत मेंहदी (सभी भोपाल), अरविंद चतुर्वेदी, अशोक पंडित (नई दिल्ली), विनीता चौबे, पुष्पा असिवाल, शशांक एवं मेजर जनरल (रिटा.) श्याम श्रीवास्तव (भोपाल) को शामिल किया गया गया है। आईसेक्ट समूह के सभी विश्व विद्यालयों के कुलपति एवं रजिस्ट्रार इसमें विशेष आमंत्रित सदस्य होंगे।

विश्वरंग की समाप्ति के ठीक एक महीने बाद हुई आयोजन समिति की बैठक में उपरोक्त समिति का गठन किया गया। समिति ने अपने लिए कुछ कार्य भी तय किये हैं जैसे -ंउचय अपने देश-शहर में हिंदी तथा भारतीय भाषाओं के प्रचार प्रसार के लिए कार्य करना, भारतीयता/भारतीय संस्कृति के प्रतिनिधि के रूप में कार्य करना एवं संबंधित गतिविधियाँ आयोजित करना, हिंदी और भारतीय भाषाओं के पठन-पाठन में कार्यरत स्थानीय विश्व विद्यालयों से गहरा संबंध स्थापित करना।

विश्व रंग की गतिविधियों को समन्वित गति प्रदान करने के लिए कुछ ठोस कार्यक्रम भी निर्धारित किये गए हैं, जिनमें कथा देश की तरह प्रवासी भारतीय साहित्य के कथा, कविता तथा आलोचना कोष प्रकाशित करना, देशों पर केंद्रित कोष प्रकाशित करना जिसमें उस देश के आधुनिक साहित्य के अनुवाद प्रकाशित हों, भारतीय साहित्य के विदेशी भाषाओं में अनुवाद प्रकाशित करना, चयनित देशों में स्वतः स्फूर्त ‘विश्व रंग’ जैसे कार्यक्रम आयोजित करना जो संयुक्त बैनर पर हो सकते हैं, ’विश्व रंग’ नाम से एक पत्रिका का प्रकाशन करना जो अधिकतम लोगों को जोड़ने का प्रयास करेगी, समानधर्मी व्यक्तियों, संस्थाओं, पत्र-पत्रिकाओं का डाटाबेस बनाना तथा ’विश्व रंग’ का आयोजन एक निश्चित अवधि में करते हुए उसकी गतिविधियों का विस्तार करना।

इस ‘विश्व रंग’ अंतर्राष्ट्रीय समिति का सचिवालय रबीन्द्रनाथ टैगोर विश्व विद्यालय, भोपाल स्थित टैगोर अंतर्राष्ट्रीय साहित्य एवं कला केन्द्र में स्थित होगा और इसमें ‘गर्भनाल’ पत्रिका की सहयोगी भूमिका रहेगी।

Related Articles

Comments

 

चुनाव आयोग से मिलती जुलती वेबसाइट का पर्दाफाश, एक पकड़ा गया

Read Full Article

Subscribe To Our Mailing List

Your e-mail will be secure with us.
We will not share your information with anyone !

Archive