Kharinews

RNTU में उद्यमिता पर राष्ट्रीय संगोष्ठी : महिलाओं में उद्यमी बनने की अथक संभावनाए हैः डॉ. पल्लवीराव चतुर्वेदी

Sep
16 2022

समाज महिलाओं को आगे बढ़ने में प्रोत्साहित करेः श्रीमती स्मिता भारद्वाज

भोपाल : 16 सितम्बर/ रबीन्द्रनाथ टैगोर विश्वविद्यालय भोपाल द्वारा ’महिला उद्यमिताः संभावनाएं और चुनौतियां’ विषय पर राष्ट्रीय संगोष्ठी आज सफलता पूर्वक संपन्न हुई। संगोष्ठी के समापन अवसर पर बतौर मुख्य अतिथि श्रीमती स्मिता भारद्वाज, सचिव, मानवाधिकार आयोग, मध्यप्रदेष शासन उपस्थित थीं। वहीं विषिष्ट अतिथि के रुप में डॉ. पल्लवी राव चतुर्वेदी, महिला उद्यमी गेट सेट पैरेंट्स विथ पल्लवी, डॉ. राजीव अग्रवाल, सीईओ अनन्या पैकेज प्रा.लि., प्रेसिडेंट एसोसिएषन ऑफ ऑल इंडस्ट्रीज मंडीदीप, डॉ. अदिती चतुर्वेदी वत्स, निदेषक आईसेक्ट ग्रुप ऑफ यूनिवर्सिटीज डॉ. संगीता जौहरी, प्रो-वाईस चांसलर आरएनटीयू, डॉ. रेजी, असिस्टेंट प्रोफेसर, टाटा इंस्टिट्यूट ऑफ सोषल साइंसेस मुंबई, संगोष्ठी के समन्वयक डॉ. रविन्द्र पाठक, डीन फैकल्टी ऑफ कॉमर्स और डॉ. प्रीति श्रीवास्तव, डीन फैकल्टी ऑफ मैनेजमेंट उपस्थित थे। इस मौके पर आईसेक्ट की समर्थ प्रोजेक्ट पुस्तिका का विमोचन किया गया।

इस मौके पर उपस्थित श्रीमती स्मिता भारद्वाज ने कहा कि महिलाओं को महत्वाकांक्षी होना चाहिए। आज महिलाएं आगे बढ़ कर काम करना चाहती हैं। बस उनका साथ देने की आवष्यकता है। हर महिला का अधिकार है कि वो जो कार्य करना चाहती है वो करें। आज भी महिलाओं के प्रति समाज में रुढ़ीवादी सोच है। जिसे बदलने के लिए प्रयास करने होंगे। हमें एक कलेक्टिव फोर्स के साथ काम करना होगा। वहीं डॉ. पल्लवीराव चतुर्वेदी ने कहा कि आप सब उद्यमी बन सकते हैं। आपके पास अभी मौका है आप सही समय पर सही जगह पर हैं। आप अभी से जुट जाएं। आप देखेंगे कि कुछ समय बाद आप बहुत आगे आ चुके होंगे। अर्ली वर्किंग से आपको बहुत फायदा मिलेगा। आज ये अवसर है आपके लिए।

डॉ. राजीव अग्रवाल जी ने कहा कि काम का जुनून होना चाहिए। फेल होने के बाद फिर से प्रयास करिए। आगे बढ़ने की सोचिए। समाज में अगर ऊपर जाना है तो जोखिम तो उठाना ही होगा। कदम उठाते रहिए आगे बढ़ते रहिए। आज स्टार्टअप्स में महिला उद्यमियों ने अपना परचम लहराया है।

आज कार्यक्रम का शुभारंभ महिला उद्यमियों की सफलता की कहानी के साथ हुआ। इस मौके पर महिला उद्यमी सुश्री उमंग श्रीधर, सुश्री रचिता कासलीवाल, सुश्री रीनु जैन, सुश्री पुष्पा पारुलकर और संध्या चौरसिया ने अपनी-अपनी सफलता की कहानी बताई। इस मौके पर कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहीं डॉ. अदिती चतुर्वेदी वत्स नेे सफलता के पांच महत्वपूर्ण टिप्स दिए। पहला अपने आईडियाज को लेकर जुनूनी बनें, दूसरा लिमिटेड रिसोर्सेज का कैसे उपयोग करें, तीसरा रिस्क लेना होगा, चौथा कड़ी मेहनत के लिए तैयार रहिए और पांचवां आप क्रिएटिव बनें। उन्होंने बताया कि आज आईसेक्ट ग्रुप में 2000 से अधिक महिलाएं जुड़ी हुई हैं। वहीं आज ‘महिला उद्यमिता हेतु अवसर’ विषय पर पैनल डिस्कषन भी किया गया। पैनल डिस्कषन में डॉ. अर्चना सिंह, टीआईएसएस मुंबई, सुश्री रष्मि भार्गव, सीईओ डेनेवो ग्रुप और उद्यमी सुश्री प्रतीक्षा शर्मा शामिल हुईं।

संगोष्ठी में देशभर से लगभग 100 से अधिक शोधार्थियों ने अपने पेपर प्रस्तुत किए और विभिन्न श्रेणियों में बेस्ट पेपर अवार्ड भी दिए गए। इस मौके पर प्रदेषभर की महिला उद्यमियों के द्वारा उत्पादों की प्रदर्षनी की भी खूब सराहना हुई। डॉ. मनीषा पांडे के समन्वयन में प्रदेषभर की महिला उद्यमियों ने उत्पादों की प्रदर्षनी लगाई।

संगोष्ठी में डॉ. नेहा माथुर, सीनियर प्रोफेसर फैकल्टी ऑफ मैनेजमेंट, श्री रोनाल्ड फर्नांडिस, सीईओ एआईसी-आरएनटीयू आर्गनाइजिंग सेक्रेट्री के रुप में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। संगोष्ठी में देषभर से बड़ी संख्या में महिला उद्यमी और शिक्षाविद शामिल हुए।

Related Articles

Comments

 

दिल्ली शराब नीति मामले में सीबीआई के नोटिस पर केसीआर की बेटी कविता का जवाब, 6 दिसंबर को मिल सकते हैं

Read Full Article

Subscribe To Our Mailing List

Your e-mail will be secure with us.
We will not share your information with anyone !

Archive