शशि थरूर ने पीएम मोदी को हिंदू हृदय सम्राट बताकर किया कटाक्ष, काशी के विद्वानों ने कांग्रेस नेता को दिखाया आईना

0
15

वाराणसी, 4 मई (आईएएएनएस)। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शशि थरूर द्वारा पीएम मोदी को हिंदू हृदय सम्राट बताए जाने पर काशी के विद्वानों ने तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की है।

गौरतलब है कि शुक्रवार को शशि थरूर ने पीएम मोदी को ‘हिंदू हृदय सम्राट’ बताया था। उन्होंने कहा था कि 2014 का लोकसभा चुनाव पीएम मोदी ने गुजरात मॉडल के नाम पर लड़ा था और 2019 का चुनाव सर्जिकल स्ट्राइक के नाम पर। लेकिन अब 2024 के चुनाव में उनके पास दिखाने के लिए कुछ नहीं बचा है, तो वो मुस्लिमों को डराने की कोशिश कर रहे हैं, जो कि किसी भी सूरत में उचित नहीं है।

कांग्रेस नेता के इस बयान पर अब काशी के विद्वानों ने पीएम मोदी का पक्ष लेकर तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की है।

काशी विश्वनाथ मंदिर ट्रस्ट के सदस्य पंडित वेंकटरमन घनपाठी ने कहा, “भारत में रहने वाला हर व्यक्ति सनातनी है और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हमारे दिल में बसते हैं। किसी को कुछ भी कहने के जरूरत नहीं है। वह वास्तव में हिंदू हृदय सम्राट हैं। हर सनातनी ना महज भारत में, बल्कि समस्त विश्व में आज खुद को गौरवान्वित महसूस कर रहा है। चाहे देश का आर्थिक विकास हो या आध्यात्मिक विकास, सब कुछ काफी तेजी से चल रहा है। सभी भारतवासी आज खुश हैं और प्रधानमंत्री मोदी सभी सनातनियों के दिल में बसते हैं।“

उन्होंने कहा, “हमारा सनातन धर्म ही हमें सबका विकास के सिद्धांत के बारे में सिखाता है और प्रधानमंत्री जिस तरह से अपने धर्म को लेकर चल रहे हैं, वह निश्चिय ही हमारे लिए गौरव का विषय है। इसमें हम सभी को भी प्रसन्नता महसूस करनी चाहिए कि पहली बार देश को ऐसे प्रधानमंत्री मिले हैं, जो चौतरफा विकास की बयार बहा रहे हैं।“

पंडित घनपाठी ने कहा, “महिला सशक्तीकरण हमेशा से ही प्रधानमंत्री की प्राथमिकता की सूची में रहा है। हर जगह शौचालय की पहुंच को भी विकसित किया। पूरे देश में आर्थिक विकास हो रहा है। पीएम मोदी के नेतृत्व में बुलेट ट्रेन और वंदे भारत ट्रेन शुरू हुई है। इसके अलावा 500 साल बाद अयोध्या में भव्य राम मंदिर का निर्माण भी हुआ है। भव्य काशी विश्वनाथ धाम भी बना है। ऐसे में निश्चिय ही प्रधानमंत्री हिंदू ह्दय सम्राट हैं।“

उन्होंने कहा, “काशी में जब काशी विश्वनाथ धाम बना है, तब से यहां दो लाख लोग दर्शन के लिए आते हैं। इससे काशी की अर्थव्यवस्था मजबूत हुई है।“