Kharinews

सुशांत को समर्पित गाने में दिवंगत अभिनेता को न्याय देने की बात

Sep
18 2020

मुंबई, 18 सितम्बर (आईएएनएस)। सुशांत सिंह राजपूत को समर्पित एक गीत में दिवंगत अभिनेता की यादों को एक कोलाज के जरिए बनाई गई वीडियो क्लिप में सहेजा गया है, जिससे प्रशंसकों की उनके पसंदीदा सितारे की यादें ताजा हो सकें।

मुझसे इंसाफ दे दो शीर्षक के साथ यह गीत मयंक पंत द्वारा कम्पोज्ड है, जबकि लाली मिश्रा द्वारा इसे लिखा गया है।

गाने के पीछे की प्रेरणा के बारे में बात करते हुए निर्माता कुमार राज ने आईएएनएस को बताया, सुशांत की मौत के बाद पूरे एक महीने तक, हमारे दिमाग में इतने सवाल थे कि इनका जवाब कोई भी नहीं दे सकता था। उनके शुभचिंतक, दोस्त, और उनके जानने वाले लोग उनके बारे में अपनी यादें ताजा कर रहे थे और वे कैसे स्वीकार कर सकते थे कि वह ऐसा कदम उठाएंगे।

उन्होंने कहा, जब उनके परिवार ने आगे आकर एफआईआर दर्ज की, तो चीजें स्पष्ट होने लगीं। वहां से पीछे नहीं लौटना था और सभी के दिमाग में केवल एक आदर्श वाक्य था कि हम सुशांत के लिए न्याय चाहते हैं और सच्चाई जानना चाहते हैं। इसी ने मुझे इस आंदोलन का समर्थन करने की प्रेरणा दी।

निर्माता ने वीडियो के बारे में विस्तृत जानकारी देते हुए बताया, एक बार गीत तैयार हो जाने के बाद, स्क्रीनप्ले और क्या जोड़ना है, यह तय करना हमारे लिए बहुत मुश्किल था। क्योंकि हम किसी को गलत रोशनी में नहीं दिखाना चाहते थे, क्योंकि जांच अभी जारी है। हमने आखिरकार सुशांत के आसपास वीडियो रखने और उनके सफर को दिखाने का फैसला किया, क्योंकि उनका एक ऐसा खूबसूरत और निपुण करियर था, जिसे हम सभी को याद रखना चाहिए।

निर्माता से पूछा गया कि चूंकि गीत इंसाफ या न्याय के बारे में बात करता है तो क्या उन्हें लगता है कि सुशांत के साथ कुछ गलत हुआ होगा? इस पर निमार्ता ने जवाब दिया, यह कहना बहुत मुश्किल है कि यह एक हत्या थी या आत्महत्या, लेकिन मैं एक बात कह सकता हूं कि तथ्य लंबे समय तक छिपा नहीं रहेगा। सीबीआई निश्चित रूप से इसकी तह तक पहुंचेगी और सच्चाई जल्द ही बाहर आएगी जिसके बाद दोषियों को दंडित किया जाएगा।

--आईएएनएस

एकेके/जेएनएस

Related Articles

Comments

 

औरंगाबाद में तेजस्वी यादव पर फेंकी गई चप्पल

Read Full Article

Subscribe To Our Mailing List

Your e-mail will be secure with us.
We will not share your information with anyone !

Archive