Kharinews

कोविड-19 से पीड़ितों की सहायता के लिए नौवां अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन

Oct
30 2020

सोनीपत, 30 अक्टूबर (आईएएनएस)। कोविड-19 महामारी से दुनिया भर में अपार क्षति हुई है। इस संक्रमण ने 215 देशों, क्षेत्रों व इलाकों को अपनी चपेट में ले लिया है। अपने यहां शरणार्थियों को रखने वाले 134 देशों में स्थानीय संचरण के मामले दर्ज किए गए हैं।

इस महामारी में कई लोगों ने अपनी नौकरी खो दी है। रोजगार के अभाव में, बीमारी के चलते परिवारों में सदस्यों के बीच भी तनाव का माहौल है।

महामारी के इस दौर में मानसिक स्वास्थ्य को ठीक रखने की बात को ध्यान में रखते हुए पीड़ितों की सहायता पर आधारित नौवें अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन का 30 से 31 अक्टूबर के बीच आयोजन किया जा रहा है। कॉन्फ्रेंस में इस बार की थीम होगी विक्टिम असिस्टेंट : चैलेंजेस एंड रेजिलिएंस ड्युरिंग कोविड-19।

सम्मेलन में तमाम क्षेत्रों से संबंधित विशेषज्ञ और पेशेवर विभिन्न ऐसी समस्याओं और मुद्दों पर अपने विचार रखेंगे, जिसका सामना विभिन्न पेशों से जुड़े लोग इस वक्त कर रहे हैं। इसमें अध्ययन क्षेत्र, आपराधिक न्याय प्रणाली, कानून प्रवर्तन एजेंसियां, चिकित्सा पेशे से जुड़े लोग, गैर-सरकारी संगठन सहित कई अन्यों के सामूहिक प्रयासों की आवश्यकता पर भी गौर फरमाया जाएगा।

जिंदल इंस्टीट्यूट ऑफ बिहेवियरल साइंसेस के प्रधान निदेशक संजीव पी. साहनी ने कहा, यह सम्मेलन विभिन्न सरकारी अधिकारियों, वकीलों, न्यायाधीशों, चिकित्सा पेशेवरों, सामाजिक कार्यकर्ताओं, मीडिया कर्मियों, नीति निमार्ताओं, मनोवैज्ञानिकों, समाजशास्त्रियों, अपराधविदों, आहतशास्त्रियों और दुनिया भर के विद्यार्थियों को आपस में जुड़ने के माध्यम से ज्ञान का आदान-प्रदान करने हेतु एक खुला मंच प्रदान करता है।

स्वयं एक मशहूर व्यवहार विशेषज्ञ और सेंटर फॉर विक्टिमोलॉजी एंड साइकोलॉजिकल स्टडीज (सीवीपीएस) के निदेशक साहनी ने इस कठिन घड़ी में पीड़ितों की सहायता किए जाने की आवश्यकता पर जोर दिया और साथ ही समाज के विभिन्न स्तरों में व्याप्त अन्याय, आघात, उत्पीड़न का सामना करने के लिए सामूहिक प्रयास की भावना को भी प्रोत्साहित किया।

उन्होंने कहा, इस वक्त आयोजित यह सम्मेलन दुनिया भर के शोधकर्ताओं के लिए एक साथ आने और पीड़ितों की सहायता करने के लिए विभिन्न विचारों और रूपरेखाओं पर चिंतन करने का एक उत्कृष्ट अवसर प्रदान करता है।

सम्मेलन को कई प्रख्यात मनोवैज्ञानिकों, आहतशास्त्रियों और अपराधविदों द्वारा संबोधित किया जाएगा।

सम्मेलन का आयोजन सेंटर फॉर विक्टिमोलॉजी एंड साइकोलॉजिकल स्टडीज (सीवीपीएस), जिंदल इंस्टीट्यूट ऑफ बिहेवियरल साइंसेज (जीआईबीएस), ओ. पी. जिंदल ग्लोबल यूनिवर्सिटी द्वारा किया जा रहा है।

सम्मेलन में दुनिया भर के 25 से अधिक देशों के 1,000 से अधिक विद्वान भाग लेंगे।

--आईएएनएस

एएसएन-एसकेपी

Related Articles

Comments

 

मजबूत शुरूआत के बाद टूटा शेयर बाजार, लाल निशान के साथ सेंसेक्स, निफ्टी (लीड-1)

Read Full Article

Subscribe To Our Mailing List

Your e-mail will be secure with us.
We will not share your information with anyone !

Archive