दलबदल कराने के लिए केसीआर को माफी मांगनी चाहिए : रेवंत रेड्डी

0
9

हैदराबाद, 27 जून (आईएएनएस)। तेलंगाना के मुख्यमंत्री ए. रेवंत रेड्डी ने कहा है कि भारत राष्ट्र समिति (बीआरएस) के अध्यक्ष के. चंद्रशेखर राव को मुख्यमंत्री रहते हुए विधायकों के दलबदल कराने के लिए माफी मांगनी चाहिए।

उन्होंने कहा कि केसीआर को दलबदल के बारे में बोलने का कोई नैतिक अधिकार नहीं है। रेवंत रेड्डी ने दावा किया कि केसीआर ने ही इसकी शुरुआत की और 61 विधायकों और एमएलसी को खरीदा।

गुरुवार को दिल्ली में एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए, मुख्यमंत्री ने कहा कि बीआरएस सुप्रीमो को तेलंगाना शहीद स्मारक आना चाहिए और दलबदल को बढ़ावा देने के लिए माफी मांगनी चाहिए।

रेवंत रेड्डी बीआरएस द्वारा अपने पांच विधायकों के कांग्रेस में शामिल होने को गलत करार देने पर पूछे गए सवाल का जवाब दे रहे थे।

मुख्यमंत्री ने बीआरएस नेताओं के. टी. रामा राव और हरीश राव के बयानों को याद किया कि कांग्रेस सरकार 100 दिनों के भीतर गिर जाएगी। उन्होंने कहा कि भाजपा नेताओं ने भी इसी तरह के बयान दिए हैं।

कांग्रेस नेता ने कहा कि हाल के लोकसभा चुनावों में बीआरएस के एक भी सीट नहीं जीतने के बाद भी केसीआर की आंखें नहीं खुली हैं।

उन्होंने कहा कि बीआरएस का वोट शेयर गिरकर 16 प्रतिशत रह गया है।

उन्होंने दोहराया कि लोकसभा चुनाव में केसीआर ने कांग्रेस को हराने के लिए भाजपा की मदद की।

रेवंत रेड्डी ने कहा कि हाल तक अपने विधायकों को अपने करीब भी नहीं आने देने वाले केसीआर अब अपने फार्म हाउस के दरवाजे खोल दिए हैं।

उन्होंने राज्य स्थापना दिवस समारोह में शामिल होने का निमंत्रण स्वीकार नहीं करने के लिए पूर्व मुख्यमंत्री की आलोचना की।

उन्होंने बीआरएस नेताओं के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए पूछा, “क्या विपक्ष के नेता द्वारा राज्य स्थापना दिवस समारोह में बोलने की कोई परंपरा है?” उन्होंने कहा कि केसीआर समारोह में इसलिए शामिल नहीं हुए, क्योंकि उन्हें बोलने का मौका नहीं दिया गया।

मुख्यमंत्री ने कहा कि कांग्रेस पार्टी को वरिष्ठ कांग्रेस नेता टी. जीवन रेड्डी के अनुभव और सेवाओं से लाभ मिलेगा।

उन्होंने आरोप लगाया कि विपक्ष ने उनकी पार्टी के एमएलसी जीवन रेड्डी की नाखुशी का फायदा उठाने की कोशिश की।

विधान परिषद के सदस्य जीवन रेड्डी ने मुख्यमंत्री द्वारा बीआरएस विधायक एम. संजय कुमार को बिना उनसे सलाह लिए पार्टी में शामिल करने पर नाखुशी जताई थी।

कांग्रेस नेतृत्व ने उनकी नाराजगी दूर करने के लिए उन्हें दिल्ली बुलाया।

तेलंगाना प्रदेश कांग्रेस कमेटी (टीपीसीसी) के अध्यक्ष रेवंत रेड्डी ने कहा कि पीसीसी अध्यक्ष का कार्यकाल तीन साल का होता है। उन्होंने पहले ही आलाकमान से नया अध्यक्ष नियुक्त करने का अनुरोध किया है।

तीन दिनों से दिल्ली में डेरा डाले मुख्यमंत्री ने कहा कि केंद्र में नई सरकार के गठन के साथ ही वह राज्य के लिए लंबित फंड को जारी कराने का प्रयास कर रहे हैं। उन्होंने दोहराया कि राज्य सरकार राज्य के विकास के लिए केंद्र के साथ मिलकर काम करेगी।

रेवंत रेड्डी ने कहा कि वह पर्याप्त बजट आवंटित करने का अनुरोध करने के लिए केंद्रीय मंत्रियों से मिल रहे हैं। उनकी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से भी मुलाकात की योजना है।