Kharinews

चीन : एनपीसी प्रतिनिधि बोलीं, पारंपरिक कौशल से होगा गरीबी उन्मूलन

May
23 2020

बीजिंग, 23 मई (आईएएनएस)। चीनी राष्ट्रीय जन प्रतिनिधि सभा (एनपीसी) की प्रतिनिधि शी लीफिंग ने शुक्रवार को कहा कि पारंपरिक जातीय सांस्कृतिक कौशल गरीब लोगों को गरीबी के दलदल से निकालकर समृद्धि के रास्ते पर ले जाने की महत्वपूर्ण शक्ति बन जाएगी।

शी लीफिंग दक्षिण-पश्चिमी चीन के क्वेइचो प्रांत के सोंगथाओ म्याओ जातीय स्वायत्त कांउटी वासी हैं, जो स्थानीय म्याओ जातीय कढ़ाई की सातवीं पीढ़ी वाली उत्तराधिकारी हैं।

म्याओ जाति के पारंपरिक शैली वस्त्र आज तक सुरक्षित हैं। इस शैली के कपड़े पर सुंदर कढ़ाई की जाती है और म्याओ जाति के लोग चांदी के चमकदार आभूषण पहनते हैं। म्याओ जातीय वस्त्र बनाने के दौरान कढ़ाई जरूरी है, जो चीनी राष्ट्र स्तरीय गैर भौतिक सांस्कृतिक विरासत है।

शी लीफिंग ने 8 सालों में पारंपरिक म्याओ जातीय कढ़ाई से संबंधित सामग्रियों का संग्रह किया। साल 2008 में उन्होंने म्याओ जातीय कढ़ाई का एक दल स्थापित किया, जिसमें बेरोजगार महिलाएं, गांववासी आदि शामिल हैं। शी लीफिंग अपने दल में सदस्यों को म्याओ कढ़ाई की कौशल सिखाती हैं। 12 सालों में इस दल के सदस्यों की संख्या 4 हजार तक पहुंच गई।

उन्होंने उंगलियों के इस कौशल से अर्थतंत्र तक को बदला। वर्तमान में शी लीफिंग और उनके साथियों द्वारा बनाए गए म्याओ कढ़ाई वाले उत्पाद 67 देशों और क्षेत्रों तक निर्यातित हो चुके हैं।

क्वेईचो प्रांत में गरीब जनसंख्या ज्यादा तौर पर पहाड़ी क्षेत्र में बसती है, जहां भूवैज्ञानिक आपदा कभी-कभार आती है और यातायात बहुत असुविधापूर्ण है। शी लीफिंग के मुताबिक, इधर के सालों में गरीबी उन्मूलन कार्य पर जोर दिया जाता है, ज्यादा से ज्यादा गरीब लोग पहाड़ी क्षेत्र से बाहर स्थानांतरित होकर शहर में जीवन बिताने लगे हैं। वे 100 गरीबी उन्मूलन कार्यशाला स्थापित कर महिलाओं को कौशल सिखाती हैं। सूई और धागे के माध्यम से पहले गरीब जीवन में पड़े म्याओ जाति के लोग अब समृद्धि के रास्ते पर आगे बढ़ रहे हैं।

बताया गया है कि सोंगथाओ म्याओ कढ़ाई जैसे पारंपरिक जातीय सांस्कृतिक कौशल के बराबर, क्वेइचो में 5 लाख से अधिक महिलाएं रोजगार मिल गईं।

( साभार : चाइना मीडिया ग्रुप, पेइचिंग)

--आईएएनएस

Related Articles

Comments

 

गोरखपुर पहुंचे रवि किशन ने एयरपोर्ट पर परखी व्यवस्था

Read Full Article

Subscribe To Our Mailing List

Your e-mail will be secure with us.
We will not share your information with anyone !

Archive