Kharinews

चीन : महामारी के दौरान मानव-रहित व्यवसाय को मिला नया मौका

Jun
02 2020

बीजिंग, 2 जून (आईएएनएस)। कोरोना वायरस निमोनिया की महामारी के प्रकोप की वजह से मानव-रहित तकनीक के प्रयोग में नई मांग सामने आ रही है, और साथ ही मानव-रहित व्यवसाय के विकास को भी नया आयाम मिला है। मानव-रहित टेकअवे सेवा, मानव-रहित ड्राइविंग, मानव-रहित कारखाना इत्यादि, धीरे-धीरे लोगों के जीवन में प्रवेश करने लगा है।

महामारी के प्रकोप के बाद मानव-रहित टेकअवे सेवा मशीन पेइचिंग के श्वुनयी क्षेत्र में एक नागरिक समुदाय में सक्रिय है। ग्राहकों को मोबाइल फोन के माध्यम से ऑर्डर देने के बाद सेवा मिलती है।

वहीं, मानव-रहित प्रसव वाहन रास्ते पर या सामुदायिक इलाके में सुरक्षित रूप से चलता है। सड़क पर वाहनों की स्थिति रिमोट मॉनिटरिंग सेंटर देखता है। ब्रेक और स्टार्ट आदि फंक्शन रिमोट कंट्रोल के माध्यम से होते हैं। सड़क पर वाहनों के संबंधित डेटा क्लाउड से बैकस्टेज पर पहुंचा जाता है। बड़ी मात्रा में डेटा प्रशिक्षण के तहत मानव-रहित ड्राइविंग तकनीक लगातार उन्नत हो रही है।

पेटेंट डेटा के अनुसार वर्तमान में दुनिया भर में ऑटोपायलट से संबंधित पेटेंट की संख्या करीब 80 हजार है, चीन संबंधित आवेदनों का सबसे बड़ा देश बन चुका है, जिसका विश्व भर में अनुपात 40 प्रतिशत से अधिक है।

स्मार्ट उपकरणों के प्रयोग से मानव-रहित कारखाना, मानव-रहित भंडार, स्मार्ट लोजिस्टिक्स, मानव-रहित परिवहन आदि क्षेत्रों में कार्यान्वयन की गति में निरंतर तेजी आ रही है। चीनी इलेक्ट्रॉनिक्स संस्थान द्वारा जारी 2019 में चीनी रोबोट व्यवसाय की विकास रिपोर्ट से पता चला है कि वर्तमान में चीनी रोबोट बाजार का उच्च गति से विकास हो रहा है।

चीनी औद्योगिक रोबोट लगातार 7 साल में विश्व में सबसे बड़ा बाजार बना रहा है। इसके साथ ही रोबोट सेवा की मांग में भी बड़ी निहित शक्ति मौजूद है। साल 2019 में चीनी रोबोट बाजार का पैमाना करीब 8.68 अरब अमेरिकी डॉलर था।

( साभार- चाइना मीडिया ग्रुप, पेइचिंग )

--आईएएनएस

Related Articles

Comments

 

यूपी में कोरोना से सबसे ज्यादा प्रभावित गौतमबुद्धनगर, अब तक 3347 मरीजों की पुष्टि

Read Full Article

Subscribe To Our Mailing List

Your e-mail will be secure with us.
We will not share your information with anyone !

Archive