Kharinews

स्पेसएक्स के क्रू ड्रैगन ने अंतरिक्ष केंद्र पहुंच कर रचा इतिहास (लीड-1)

Jun
01 2020

वाशिंगटन, 31 मई (आईएएनएस)। स्पेस एक्स के क्रू ड्रैगन अंतरिक्षयान नासा के अंतरिक्ष यात्रियों रॉबर्ट बेनकेन और डगलस हर्ले को लेकर रविवार को सफलतापूर्वक अंतर्राष्ट्रीय अंतरिक्ष केंद्र पहुंच गया। इसे अमेरिकी अंतरिक्ष कार्यक्रम में एक नए युग की शुरुआत माना जा रहा है।

स्पेसएक्स ने ट्वीट किया, डॉकिंग कन्फर्म्ड- क्रू ड्रैगन अंतरिक्ष केंद्र पहुंच गया है।

अंतरिक्ष केंद्र पर पहले से मौजूद एक्सपेडिशन 63 के कमांडर और नासा के अंतरिक्षयात्री क्रिस कैसिडी और रूसी अंतरिक्षयात्रियों एनातोली इवानिशिन और इवान वेगनर ने बेनकेन और हर्ले का कक्षा में मौजूद प्रयोगशाला में स्वागत किया।

नासा के दोनों अंतरिक्षयात्रियों ने शनिवार को इतिहास रच दिया, क्योंकि वे लगभग एक दशक में अमेरिका की धरती से एक रॉकेट के जरिए अंतरिक्ष केंद्र जाने वाले पहले अमेरिकी बन गए हैं।

अंतरिक्ष यान ने शनिवार अपराह्न् 3.22 बजे (ईडीटी) फ्लोरिडा स्थित नासा के केनेडी अंतरिक्ष केंद्र के प्रक्षेपण परिसर 39ए से स्पेसएक्स के एक फाल्कन 9 रॉकेट के जरिए अंतरिक्ष केंद्र के लिए प्रस्थान किया था।

स्पेसएक्स का चालक दल के साथ यह पहला मिशन है। इसके अलावा यह, अमेरिकी सरकार द्वारा 2011 में अंतरिक्ष शटल कार्यक्रम को सेवानिवृत्त किए जाने के बाद चालक दल के साथ अमेरिका का भी पहला लॉन्च है।

अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी ने रविवार को कहा कि यह मिशन गहरे अंतरिक्ष मिशनों के मानवी अन्वेषण को विस्तारित करने का एक कदम है।

नासा के प्रशासक जिम ब्रिडेनस्टाइन ने कहा, आज मानव की अंतरिक्ष उड़ान में एक नया युग, क्योंकि हमने एक बार फिर अमेरिकी अंतरिक्षयात्रियों को अमेरिकी रॉकेट के जरिए, अमेरिका की धरती से, पृथ्वी की कक्षा में मौजूद अपनी राष्ट्रीय प्रयोगशाला, अंतर्राष्ट्रीय अंतरिक्ष केंद्र भेजा है।

उन्होंने एक बयान में कहा, मनुष्यों के लिए डिजाइन की गई इस वाणिज्यिक प्रणाली का लॉन्च किया जाना अमेरिकी उत्कृष्टता का एक उल्लेखनीय प्रदर्शन है और चंद्रमा व मंगल पर मानवी अन्वेषण को विस्तारित करने के हमारे मार्ग पर एक महत्वपूर्ण कदम है।

इस सफल लॉन्चिंग के बाद स्पेसएक्स के संस्थापक एलन मस्क भावुक हो उठे और उनकी आंखें भर आईं।

मस्क ने लॉन्च के बाद आयोजित एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, मैं वाकई आज के दिन भावुकता से भरा हुआ है, इसलिए साफ कहूं तो बोल पाना कठिन लग रहा है। इस लक्ष्य के लिए 18 सालों से काम कर चल रहा था, इसलिए भरोसा नहीं हो रहा कि यह सफल हो गया।

नासा के स्पेसएक्स डेमो-2 के रूप में जाना जाने वाला यह मिशन एक एंड टू एंड फ्लाइट है, जिसका उद्देश्य स्पेसएक्स की चालक दल को ढोने वाली प्रणाली को सत्यापित करना है, जिसमें लॉन्च, इन-ऑर्बिट, डॉकिंग और लैंडिंग ऑपरेशन शामिल हैं।

बेनकेन और हर्ले स्पेसएक्स मिशन कंट्रोल के साथ इस बात को सत्यापित करने के लिए काम करेंगे कि अंतरिक्षयान उम्मीद के मुताबिक पर्यावरणीय नियंत्रण प्रणाली, डिस्प्ले और नियंत्रण प्रणाली का परीक्षण करने, और चहलकदमी करने तथा अन्य चीजें सही तरीके से करने में सक्षम है।

--आईएएनएस

Related Articles

Comments

 

गौतमबुद्धनगर : डीएम ने 10 जुलाई से 13 जुलाई तक के लिए जारी किए निर्देश

Read Full Article

Subscribe To Our Mailing List

Your e-mail will be secure with us.
We will not share your information with anyone !

Archive