Kharinews

कोविड प्रभाव : जुलाई में जीएसटी संग्रह 14 प्रतिशत घट कर 87422 करोड़ रुपये

Aug
01 2020

नई दिल्ली, 1 अगस्त (आईएएनएस)। कोविड के कारण पिछले कुछ महीनों से बाधित आर्थिक गतिविधियों का असर सरकार के कर संग्रह पर पड़ा है और वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) के तहत सरकार का कर संग्रह जुलाई में एक लाख करोड़ रुपये के मनोवैज्ञानिक स्तर से काफी नीचे गिरकर 87,422 करोड़ रुपये रहा।

जुलाई का संग्रह पिछले वर्ष के संग्रह का 84 प्रतिशत है, और यह अप्रैल और मई के महीनों की तुलना में हालांकि सुधार है, क्योंकि कोविड-19 के कारण लागू लॉकडाउन और आर्थिक गतिविधियों के गंभीर रूप से बाधित होने के कारण उन दो महीनों में जीएसटी संग्रह अबतक के न्यूनतम स्तर पर पहुंच गया था।

अप्रैल में जीएसटी संग्रह 32,294 करोड़ रुपये था, जो पिछले साल के इसी महीने के जीसटी संग्रह का मात्र 28 प्रतिशत था और मई का जीएसटी संग्रह 62,009 करोड़ रुपये था, जो पिछले वर्ष के इसी महीने के राजस्व संग्रह का 62 प्रतिशत था।

सिर्फ जून में जीएसटी संग्रह 90,917 करोड़ रुपये पहुंच सका।

वित्त मंत्रालय ने एक बयान में कहा, पिछले महीने जून का राजस्व मौजूदा महीने से अधिक था। हालांकि यह ध्यान देने योग्य है कि बड़ी संख्या में करदाताओं ने फरवरी, मार्च और अप्रैल 2020 के करों का भी भुगतान जून में किया। यह भी ध्यान दिया जा सकता है कि पांच करोड़ रुपये से कम के कारोबार वाले करदाता सितंबर 2020 तक रिटर्न फाइल करने में लगातार छूट की सुविधा का लाभ उठा रहे हैं।

आधिकारिक बयान में कहा गया है कि जुलाई में कुल 87,422 करोड़ रुपये के जीएसटी संग्रह में सीजीएसटी 16,147 करोड़ रुपये, एसजीएसटी 21,418 करोड़ रुपये था।

आईजीएसटी संग्रह 42,592 करोड़ रुपये (इसमें वस्तुओं के आयात पर संग्रहित 20,324 करोड़ रुपये भी शामिल है) था और सेस संग्रह 7,265 करोड़ रुपये (वस्तुओं के आयात पर संग्रहित 807 करोड़ रुपये शामिल) था।

सरकार ने नियमित निपटान के रूप में आईजीएसटी से 18,838 करोड़ रुपये के एसजीएसटी और 23,320 करोड़ रुपये के सीजीएसटी का निपटारा किया है।

जुलाई महीने में नियमित निपटारे के बाद केंद्र सरकार और राज्य सरकारों को मिले कुल राजस्व सीजीएसटी के लिए 39,467 करोड़ रुपये और एसजीएसटी के लिए 40,256 करोड़ रुपये हैं।

--आईएएनएस

Category
Share

Related Articles

Comments

 

भारत-बांग्लादेश के बीच लंबित मामले सुलझाए जाएंगे : मोमेन

Read Full Article

Subscribe To Our Mailing List

Your e-mail will be secure with us.
We will not share your information with anyone !

Archive