Kharinews

पीएमजीकेएवाई : जुलाई के कोटे का महज 59 फीसदी बंटा मुफ्त अनाज

Aug
05 2020

नई दिल्ली, 4 अगस्त (आईएएनएस)। कोरोना काल में शुरू की गई मुफ्त अनाज वितरण योजना प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना (पीएमजीकेएवाई) के दूसरे चरण में जुलाई महीने के कोटे का महज 59 फीसदी अनाज का वितरण हो पाया है। यह जानकारी केंद्रीय उपभोक्ता मामले, खाद्य एवं सार्वजनिक विरण मंत्रालय से मिली।

मंत्रालय से मिली जानकारी के अनुसार, जुलाई में शुरू हुए पीएमजीकेएवाई के दूसरे चरण में अब तक राज्यों ने 44.08 लाख टन अनाज का उठाव किया है जिसमें से 23.80 लाख टन का विरतण हुआ है। वहीं, जुलाई महीने के लिए आवंटित अनाज में से करीब 47.38 करोड़ लाभार्थियों के बीच 23.69 लाख टन का वितरण हुआ है, हालांकि अनाज वितरण का काम अभी जारी है।

प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के दूसरे चरण में एक जुलाई से 30 नवंबर 2020 तक देशभर राशन कार्ड धारक करीब 81 करोड़ लोगों के बीच कुल 201 लाख टन अनाज का मुफ्त वितरण किया जाएगा। इस योजना के तहत करीब 19.4 करोड़ राशन कार्ड धारकों के बीच कुल 12 लाख टन चने का भी वितरण किया जाएगा।

कोरोनावायरस संक्रमण की रोकथाम के लिए किए गए देशव्यापी लॉकडाउन और महामारी से मिल रही आर्थिक चुनौतियों से निपटने के लिए किए गए राहत के उपायों में केंद्र सरकार ने आरंभ में ही देश के गरीबों को मुफ्त अनाज मुहैया करवाने के लिए पीएमजीकेएवाई की घोषणा की।

इस योजना के पहले चरण में अप्रैल, मई और जून के दौरान पीडीएस के प्रत्येक लाभार्थी को हर महीने पांच किलो अनाज और प्रत्येक परिवार के लिए एक किलो दाल देने का प्रावधान था। लेकिन बाद में इस योजना को पांच महीने के लिए आगे बढ़ाते हुए जुलाई से नवंबर तक कर दिया गया। हालांकि दाल दूसरे चरण में दाल की जगह प्रत्येक लाभार्थी परिवार को एक किलो चना दिया जाता है।

मंत्रालय से मिली जानकारी के अनुसार, पीएमजीकेएवाई के तहत आवंटित कुल अनाज 119.5 लाख टन में राज्यों ने कुल 117.08 लाख टन का उठाव किया जिसका करीब 93 फीसदी वितरण हुआ। वहीं, तीन महीने के लिए आवंटित 5.87 लाख टन दाल में से 5.80 लाख टन दाल राज्यों तक पहुंची जिसका करीब 89 फीसदी का वितरण हुआ है।

- आईएएनएस

Category
Share

Related Articles

Comments

 

टेनिस : जोकोविच ने रोम में जीता 36वां मास्टर्स खिताब

Read Full Article

Subscribe To Our Mailing List

Your e-mail will be secure with us.
We will not share your information with anyone !

Archive