Kharinews

अन्नाद्रमुक विवाद: दिग्गज नेता को ओपीएस ने राजनीतिक सलाहकार के रूप में रखा, ईपीएस ने निष्कासित किया

Sep
27 2022

चेन्नई, 27 सितम्बर (आईएएनएस)। पूर्व मुख्यमंत्रियों के. पलानीस्वामी और ओ. पन्नीरसेल्वम के बीच एक बार फिर तकरार खुलकर सामने आ रही है। इस बार दिग्गज नेता पनरुति एस. रामचंद्रन को लेकर अन्नाद्रमुक में विवाद शुरु हो गया है।

पनीरसेल्वम ने मंगलवार को रामचंद्रन को पार्टी का राजनीतिक सलाहकार नियुक्त किया। इस नियुक्ति के कुछ घंटे बाद, पार्टी के अंतरिम महासचिव पलानीस्वामी ने रामचंद्रन को पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से निष्कासित कर दिया और उन्हें पार्टी के सभी पदों से मुक्त कर दिया। एक बयान में, उन्होंने पार्टी कार्यकर्ताओं से रामचंद्रन के साथ कोई संबंध नहीं रखने का आह्वान किया।

रामचंद्रन ने कुछ दिन पहले एक बयान में कहा था कि अगर पलानीस्वामी अन्नाद्रमुक के मामलों की कमान संभालते हैं, तो पार्टी विलुप्त हो जाएगी। पलानीस्वामी ने एक बयान में कहा कि रामचंद्रन को आयोजन सचिव के पद सहित अन्नाद्रमुक की सभी जिम्मेदारियों से हटाया जा रहा है। उन्होंने यह भी कहा कि रामचंद्रन को पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से भी हटा दिया गया क्योंकि उन्होंने अन्नाद्रमुक का अपमान किया है।

हालांकि, पन्नीरसेल्वम की पोस्टिंग की कानूनी या तकनीकी वैधता नहीं है क्योंकि उन्हें 11 जुलाई को आयोजित एआईडीएमके जनरल काउंसिल द्वारा निष्कासित कर दिया गया था। जबकि मद्रास उच्च न्यायालय की एकल पीठ ने 11 जुलाई के आदेश को रद्द कर दिया था।

जहां पार्टी जनरल काउंसिल के अधिकांश सदस्यों और पदाधिकारियों ने पलानीस्वामी के नेतृत्व वाले गुट के प्रति निष्ठा दिखाई है, वहीं पनीरसेल्वम समूह का कहना है कि पार्टी के कार्यकर्ता उनके साथ हैं। यह देखना होगा कि अन्नाद्रमुक की राजनीति आने वाले दिनों में शक्तिशाली थेवर समुदाय के रूप में कैसे विकसित होगी, जिसकी दक्षिण तमिलनाडु में एक बड़ी ताकत है, पनीरसेल्वम और वी.के. शशिकला- दोनों थेवर हैं।

--आईएएनएस

केसी/एएनएम

Related Articles

Comments

 

चीन-लाओस रेलवे ने एक प्रभावशाली रिपोर्ट कार्ड सौंपा : चीनी विदेश मंत्रालय

Read Full Article

Subscribe To Our Mailing List

Your e-mail will be secure with us.
We will not share your information with anyone !

Archive