Kharinews

कश्मीर की पहली अंतरराष्ट्रीय व्हीलचेयर बास्केटबॉल खिलाड़ी इशरत अख्तर अब मोटिवेशनल स्पीकर

Sep
27 2022

श्रीनगर, 27 सितम्बर (आईएएनएस)। उत्तरी कश्मीर के बारामूला जिले की रहने वाली इशरत अख्तर ने अपनी शारीरिक कमजोरी को आशीर्वाद के रूप में स्वीकार किया है, जो कई अन्य लोगों के लिए एक आदर्श बनकर उभरी है।

अख्तर ने कश्मीर के पहले अंतरराष्ट्रीय व्हीलचेयर बास्केटबॉल खिलाड़ी होने का सम्मान जीता है। वह अंतरराष्ट्रीय और राष्ट्रीय स्तर पर कई बार देश का प्रतिनिधित्व कर चुकी हैं और अब एक मोटिवेशनल स्पीकर भी बन चुकी हैं। उनके शब्द विशेष रूप से उन लोगों की मदद करते हैं जो शारीरिक रूप से अक्षम हैं।

मीडिया से बात करते हुए इशरत अख्तर का कहना है कि 24 अगस्त 2016 को उनका एक्सीडेंट हो गया था जिससे उनकी रीढ़ की हड्डी टूट गई थी। इसके बाद वह स्थायी रूप से विकलांग हो गई और उसे अपना शेष जीवन व्हीलचेयर में बिताने के लिए मजबूर होना पड़ा। वह पहले एक स्वस्थ गांव की लड़की थी जब तक कि वह गलती से अपने घर की बालकनी से गिर नहीं गई।

इस हादसे के बाद अख्तर को काफी मुश्किलों से गुजरना पड़ा जिस दौरान उन्हें यकीन नहीं हो रहा था कि वह फिर से अपने पैरों पर खड़ी हो पाएंगी। इस दौरान उन्हें मानसिक तनाव भी हुआ, लेकिन साहस और आजादी ने उन्हें ऐसा मौका दिया कि आज वह सफल लोगों की सूची में एक हैं।

अख्तर का कहना है कि एक दिन वह श्रीनगर के इंडोर स्टेडियम में गई, जहां व्हीलचेयर बास्केटबॉल फेडरेशन ऑफ इंडिया कैंप का आयोजन किया जा रहा था, और राष्ट्रीय स्तर के लिए चुना गया था।

अख्तर का कहना है कि उन्होंने कभी नहीं सोचा था कि वह व्हीलचेयर बास्केटबॉल खिलाड़ी बन सकती हैं और अपने देश का प्रतिनिधित्व कर सकती हैं। चैंपियनशिप में भाग लेने के लिए उन्हें अलग-अलग राज्यों में जाना पड़ा। उन्होंने कहा कि प्रशिक्षण के लिए उन्हें हर दिन बारामूला से श्रीनगर जाना पड़ता था क्योंकि बारामूला में बुनियादी ढांचे की कमी के कारण कई समस्याएं थीं। यह उनके लिए एक कठिन दौर था, लेकिन इससे उबरने के बाद ही उन्हें अपने माता-पिता का पूरा सहयोग मिला। उनके माता-पिता ने हमेशा उन्हें प्रोत्साहित किया और उन्हें कभी भी निराश नहीं होने दिया।

अख्तर ने कहा कि दुनिया में कोई भी काम मुश्किल नहीं होता और अगर दिल में लगन हो तो इंसान दुनिया में कुछ भी हासिल कर सकता है। वह कहती हैं कि वह भविष्य में और अधिक व्हीलचेयर बास्केटबॉल चैंपियनशिप में भाग लेना चाहती हैं और न केवल जम्मू-कश्मीर बल्कि पूरे भारत को गौरवान्वित करना चाहती हैं।

--आईएएनएस

पीजेएस/एएनएम

Related Articles

Comments

 

चीन-लाओस रेलवे ने एक प्रभावशाली रिपोर्ट कार्ड सौंपा : चीनी विदेश मंत्रालय

Read Full Article

Subscribe To Our Mailing List

Your e-mail will be secure with us.
We will not share your information with anyone !

Archive