Kharinews

मोबाइल सेवाएं बहाल होने पर दुनिया से जुड़ा कश्मीर

Oct
15 2019

श्रीनगर, 15 अक्टूबर (आईएएनएस)। कश्मीर में दो महीने बाद मोबाइल संचार सेवाएं बहाल होने के बाद अब अफरोजा को लगातार अपने पड़ोसी के घर जाकर लैंडलाइन फोन का उपयोग नहीं करना पड़ता। वह अब बेंगलुरू में रहने वाले अपने मंगेतर से कभी भी बातचीत कर सकती है।

अफरोजा की शादी अगस्त के आखिरी सप्ताह में तय हुई थी। मगर पांच अगस्त को अनुच्छेद-370 के निरस्त होने के बाद कश्मीर में लगाए गए प्रतिबंधों के कारण इसे रद्द करना पड़ा। उसकी शादी अब नवंबर में होगी।

अफरोजा को उम्मीद है कि उसकी शादी के समय तक सभी प्रतिबंध हटा दिए जाएंगे और तब तक घाटी में इंटरनेट सेवा भी बहाल कर दी जाएगी।

उन्होंने कहा, मैं अपने मंगेतर से बात करने के लिए अब अपने पड़ोसी के लैंडलाइन पर निर्भर नहीं हूं। सच कहूं तो यह दुनिया में वापस आने जैसा है।

कश्मीर में 5 अगस्त से मोबाइल संचार 70 दिनों तक निलंबित रहे। इतने लंबे समय के बाद पोस्ट पेड मोबाइल संचार की बहाली ने छात्रों को भी खुश किया है।

कॉलेज की छात्रा सबिया मीर ने कहा, मोबाइल सेवा बंद होने से छात्र सबसे जयादा परेशानी झेल रहे थे।

कश्मीर में 66 लाख सेलफोन विभिन्न सेवा प्रदाताओं के साथ पंजीकृत हैं। लगभग 26 लाख प्री-पेड मोबाइल हालांकि अभी भी बंद हैं।

राईक अहमद ने कहा, सरकार को जनजीवन आसान बनाने के लिए संचार माध्यमों पर लगाए गए सभी प्रतिबंधों को हटाना चाहिए। यह हम पर कोई एहसान नहीं है, यह हमारा अधिकार है जो छीन लिया गया।

काफी लोग अपना बिल भरने के लिए श्रीनगर स्थित बीएसएनएल कार्यालयों का चक्कर लगा रहे हैं। कुछ लोगों ने अपने बिलों का ऑनलाइन भुगतान करने के लिए जम्मू में अपने रिश्तेदारों से संपर्क किया।

एक इंजीनियर मुहम्मद अयूब ने कहा, मेरा फोन काम नहीं कर रहा है, मेरे 1,200 रुपये बकाया है। मैं दूरसंचार कार्यालय गया था, लेकिन वहां काफी भीड़ थी। इसलिए मैंने जम्मू में अपने एक दोस्त को बकाया बिल भरने को कहा है।

इससे पहले सरकार ने स्कूलों और कॉलेजों को खोलने का भी आदेश दिया है। इसके साथ ही सामान्य स्थिति बहाल करने के लिए पर्यटकों को दी गई वह सलाह भी वापस ले ली गई है, जिसमें उन्हें घाटी का दौरा नहीं करने को कहा गया था। इन सभी प्रयासों के बावजूद हालांकि स्थिति में सुधार के संकेत कम ही मिले हैं।

कई लोगों का मानना है कि प्रीपेड फोन और इंटरनेट को फिर से शुरू करने से कश्मीर में सामान्य स्थिति वापस लाने में मदद मिलेगी, जिन पर अगस्त से ही प्रतिबंध लगा हुआ है।

--आईएएनएस

Related Articles

Comments

 

व्यापम घोटाला : आरक्षक भर्ती परीक्षा में 31 दोषी, सजा का ऐलान 25 नवंबर को (लीड-1)

Read Full Article
0

Subscribe To Our Mailing List

Your e-mail will be secure with us.
We will not share your information with anyone !

Archive