Kharinews

2021 में महिलाओं, बच्चों के खिलाफ अपराध में उल्लेखनीय वृद्धि हुई: एनसीआरबी डेटा

Aug
29 2022

नई दिल्ली, 29 अगस्त। महिलाओं और बच्चों के खिलाफ अपराध में पिछले वर्ष की तुलना में 2021 में उल्लेखनीय वृद्धि देखी गई है। राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो द्वारा जारी ताजा आंकड़ों के अनुसार, 2021 के दौरान महिलाओं के खिलाफ अपराध के कुल 4,28,278 मामले दर्ज किए गए, जो 2020 की तुलना में 15.3 प्रतिशत (3,71,503 मामले) की वृद्धि दर्शाता है।

आईपीसी के तहत महिलाओं के खिलाफ अपराध के अधिकांश मामले पति या उनके रिश्तेदारों द्वारा क्रूरता (31.8 प्रतिशत) के तहत दर्ज किए गए हैं। इसके बाद अपहरण और महिलाओं का अपहरण के (17.6 प्रतिशत) और बलात्कार (7.4 प्रतिशत) मामले दर्ज किये गये हैं। 2020 में 56.5 की तुलना में 2021 में प्रति लाख महिला आबादी पर दर्ज अपराध दर 64.5 है।

इसी तरह, 2021 के दौरान बच्चों के खिलाफ अपराध के कुल 1,49,404 मामले दर्ज किए गए, जो 2020 (1,28,531 मामले) की तुलना में 16.2 प्रतिशत की वृद्धि दर्शाता है। प्रतिशत के संदर्भ में, 2020 के दौरान बच्चों के खिलाफ अपराध के तहत प्रमुख अपराध प्रमुख अपहरण (45 प्रतिशत) और बाल दुष्कर्म सहित यौन अपराधों से बच्चों का संरक्षण अधिनियम, 2012 (38.1 प्रतिशत) थे। 2020 में 28.9 की तुलना में 2021 में प्रति लाख बच्चों की आबादी पर दर्ज अपराध दर 33.6 है।

एनसीआरबी के आंकड़ों में कहा गया है कि कुल मिलाकर, कुल 60,96,310 सं™ोय अपराध जिनमें 36,63,360 भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) अपराध और 24,32,950 विशेष और स्थानीय कानून (एसएलएल) अपराध शामिल हैं, 2021 में दर्ज किए गए थे। यह 2020 से अधिक मामलों के पंजीकरण में (66,01,285 मामले) के मुकाबले 5,04,975 (7.6 प्रतिशत) की गिरावट दर्शाता है। प्रति लाख जनसंख्या पर दर्ज अपराध दर 2020 में 487.8 से घटकर 2021 में 445.9 हो गई है। 2021 के दौरान, आईपीसी के तहत मामलों के पंजीकरण में 13.9 प्रतिशत की गिरावट आई है, जबकि एसएलएल अपराधों में 2020 की तुलना में 3.7 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। 2021 के दौरान कुल सं™ोय अपराधों में आईपीसी का प्रतिशत हिस्सा 60.1 प्रतिशत था, जबकि एसएलएल मामलों का प्रतिशत हिस्सा 39.9 प्रतिशत था।

एनसीआरबी के आंकड़ों के अनुसार, लोक सेवक (धारा 188 आईपीसी) द्वारा विधिवत प्रख्यापित आदेश की अवज्ञा के तहत दर्ज मामलों में 2020 में 6,12,179 मामलों से 2021 में 3,22,115 मामलों और अन्य आईपीसी अपराधों के तहत 2020 में 10,62,399 मामले से 2021 में 4,96,535 मामले हो गए।

Related Articles

Comments

 

केटीआर की आरजीयूकेटी यात्रा के दौरान छात्रों को बंद नहीं किया गया: तेलंगाना सरकार

Read Full Article

Subscribe To Our Mailing List

Your e-mail will be secure with us.
We will not share your information with anyone !

Archive