आखिर यूपी में कैसे चला अखिलेश यादव का जादू, सपा प्रवक्ता फकरुल हसन ने बताई अंदर की बात

0
9

लखनऊ, 5 जून (आईएएनएस)। लोकसभा चुनाव 2024 में समाजवादी पार्टी देश की तीसरी सबसे बड़ी पार्टी उभरकर सामने आई, जिसने अखिलेश यादव को उत्साह से लबरेज कर दिया है। उत्तर प्रदेश में सपा के शानदार प्रदर्शन ने इंडिया गठबंधन में अखिलेश यादव की भूमिका अहम कर दी है।

सपा प्रमुख का कहना है कि इस बार सूबे की जनता ने धार्मिक मुद्दों से हटकर अपने मुद्दों पर मतदान किया है। वहीं, सपा के शानदार प्रदर्शन पर प्रवक्ता फखरुल हसन चांद का बयान सामने आया है।

उन्होंने कहा, “सबसे पहले मैं देश की जनता को बधाई देना चाहता हूं कि उन्होंने इंडिया गठबंधन पर भरोसा जताया। इंडिया गठबंधन का समर्थन किया। समाजवादी पार्टी देश की तीसरी सबसे बड़ी पार्टी बनी है। हम उत्तर प्रदेश की जनता का आभार व्यक्त करते हैं। दलितों, मजदूरों और किसानों का आभार व्यक्त करते हैं। वहीं, इंडिया गठबंधन की शाम को बैठक है। जिसमें भविष्य की रणनीति पर फैसला किया जाएगा।“

इसके अलावा, उन्होंने एनडीए द्वारा प्रदेश की सभी 80 लोकसभा सीटों पर जीत दर्ज करने के दावे पर भी तंज कसा।

उन्होंने कहा, “सपने देखने में कोई टैक्स नहीं लगता है। देश में दूध और दही पर टैक्स है, लेकिन सपने देखने में कोई टैक्स नहीं है। आप सपने देख सकते हैं। वो सपने देख रहे थे, लेकिन जनता उनसे हकीकत में सवाल कर रही थी कि पेपर लीक क्यों हो रहा है? अग्निवीर जैसी योजनाएं क्यों लाई जा रही है? महंगाई क्यों बढ़ी हुई है? किसानों की आय अभी तक क्यों दोगुनी नहीं हुई? इन सवालों का जवाब भाजपा के पास नहीं है। भाजपा केवल सपने देख रही थी, लेकिन समाजवादी पार्टी जनता के मुद्दे उठा रही थी, इसलिए जो परिणाम आए हैं, वो सामने हैं कि जनता ने इंडिया गठबंधन का साथ दिया है।“

उन्होंने आगे कहा, “समाजवादी पार्टी की पीडीए की रणनीति सफल हुई है। उत्तर प्रदेश के सभी परेशान युवाओं का, जो अग्निवीर योजनाओं से परेशान थे, उनका हमें साथ मिला है। जिन युवाओं को उत्तर प्रदेश सरकार ने नजरअंदाज करने का काम किया, हमें उन युवाओं का साथ मिला। आज जो आपको परिवर्तन नजर आ रहा है, वो उत्तर प्रदेश के युवाओं ने किया है।“

जब उनसे पूछा गया कि अब किसकी सरकार बनने जा रही है। इंडिया गठबंधन या एनडीए, तो इस पर सपा प्रवक्ता ने कहा, “शाम को इस संबंध में बैठक होगी। इसके बाद आगे की रणनीति पर फैसला ले लिया जाएगा कि किसकी सरकार बनानी है। ध्यान देने वाली बात है कि जनता ने किसी को भी बहुमत नहीं दिया है। ना ही भाजपा के पास बहुमत है और ना ही इंडिया गठबंधन के पास बहुमत है। अब हमारी बैठक होगी। बैठक के बाद आगे की रणनीति पर फैसला किया जाएगा कि क्या करना है। देखते हैं कि किसका प्रयास सफल होता है, लेकिन हम उत्तर प्रदेश की जनता का धन्यवाद देते हैं कि उन्होंने समर्थन दिया।“