इंदौर में भाजपा की रिकाॅॅर्ड जीत, नोटा ने रचा इतिहास, दो लाख से अधिक वोट मिले

0
11

इंदौर, 4 जून (आईएएनएस)। लोकसभा चुनाव में इंदौर में एक साथ दो रिकॉर्ड बना। एक ओर भाजपा उम्मीदवार शंकर लालवानी ने रिकॉर्ड मातो से जीत हासिल की, तो वहीं नोटा ने भी रिकॉर्ड बनाया। यहां दो लाख से अधिक वोट नोटा को मिले। यह अब तक यह एक रिकॉर्ड है। देश में इससे अधिक वोट नोटा को कभी नहीं मिले।

चुनाव में जीत दर्ज करने पर भाजपा उम्मीदवार शंकर लालवानी ने कहा कि यह मोदी जी की नीतियों की जीत है, भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ताओं की जीत है, ये इंदौर की जनता की जीत है। उन्होंने कहा कि पीएम मोदी की नीतियों के कारण यहां की जनता ने उन्हें इतना अधिक वोट दिया। भाजपा ने पिछली बार की तुलना में अधिक वोट हासिल किया। लालवानी ने कहा कि अगर यहां से कांग्रेस का उम्मीदवार होता, तो भी कोई फर्क नहीं पड़ता। उन्होंने अपनी जीत का श्रेय पार्टी नेतृत्व व संगठन को दिया। लालवानी ने इंदौर की जनता का आभार जताया और कहा कि यहां की जनता के विश्वास व उम्मीदों पर वह खरा उतरेंगे।

उल्लेखनीय है कि इंदौर से कांग्रेस उम्मीदवार ने अपना नामांकन वापस ले लिया था और भाजपा में शामिल हो गए थे। इसलिए यहां से पार्टी का कोई उम्मीदवार नहीं था।

भाजपा उम्मीदवार शंकर लालवानी की जीत पर मध्यप्रदेश सरकार में मंत्री और इंदौर के विधायक कैलाश विजयवर्गीय ने कहा कि यह पीएम मोदी की नीतियों और भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ताओं की जीत है। जीत का असली श्रेय भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ताओं को जाता है। क्योंकि उनकी कड़ी मेहनत से ही पार्टी ने यहां इतनी बड़ी जीत हासिल की है।

कैलाश विजयवर्गीय ने कहा कि शंकर लालवानी ने यहां रिकॉर्ड मतों से जीत हासिल की है। यह निकट भविष्य में टूटने वाला नहीं है। मध्य प्रदेश में क्लीन स्वीप करने का मतलब है कि प्रदेश की जनता पूरी तरह से मोदी जी के साथ है और उनको प्रेम करती है। उन्होंनेे कहा कि प्रदेश की जनता ने पार्टी के प्रति जो विश्वास जताया है, पार्टी इसे कभी नहीं भूलेगी, इसका उत्तर वह अपने विकास कार्यों से देगी। उन्होंने कहा कि पहले की ही भांति इंदौर और मध्यप्रदेश में विकास की धारा चलती रहेगी।

उधर, भाजपा की इस जीत से पार्टी कार्यकर्ताओं में उत्साह का माहौल है। भाजपा कार्यालय पर इकट्ठा हुए कर्यकर्ताओं ने जमकर जश्न मनाया ओर एक-दूसरे को मिठाइयां खिलाई। भाजपा कार्यालय के बाहर सैकड़ो कार्यकर्ता ढोल और ताशे की थाप पर झूमते, नाचते रहे।