कांग्रेस के निखिल कुमार ने औरंगाबाद सीट पर ठोंका दावा, फैसले से इंडी गठबंधन असहज (लीड-1)

0
13

पटना, 24 मार्च (आईएएनएस)। पूर्व राज्यपाल और वरिष्ठ कांग्रेस नेता निखिल कुमार ने दावा किया कि वह 2024 का लोकसभा चुनाव बिहार के औरंगाबाद सीट से लड़ेंगे। लोकसभा चुनाव 2024 के लिए राष्ट्रीय जनता दल ने इस सीट से अभय कुशवाहा को टिकट दिया है। ऐसे में बिहार में इंडी गठबंधन का क्या होने वाला है, इस पर संशय बना हुआ है।

दरअसल, निखिल कुमार द्वारा औरंगाबाद सीट पर दावा ठोकने के बाद से ही इंडी गठबंधन के दलों में कलह खुलकर सामने आ गई है। निखिल कुमार ने इस सीट पर दावा करते हुए कहा कि औरंगाबाद कांग्रेस पार्टी की पारंपरिक सीट है और यहां हमारी अच्छी पकड़ है। कांग्रेस पार्टी ने 5 साल पहले गलती की थी और गठबंधन के लिए हुए समझौते का सम्मान रखने के लिए ही यह सीट गंवा दी थी। औरंगाबाद के लोग उम्मीद कर रहे हैं कि कांग्रेस उम्मीदवार को यहां से चुनाव लड़ना चाहिए और मुझे उम्मीद है कि हमारी पार्टी मुझे इस सीट से चुनाव लड़ने की अनुमति देगी।

कुमार ने कहा, “कांग्रेस पार्टी के समर्थकों ने मुझसे संपर्क किया और किसी भी कीमत पर औरंगाबाद से चुनाव लड़ने को कहा है।”

इसके साथ ही निखिल कुमार ने कहा कि राजद ने ऐसे उम्मीदवार को टिकट दिया है जो स्थानीय मुद्दों से अनजान हैं। उन्हें औरंगाबाद की जमीनी हकीकत तक नहीं पता। हम पिछले 10 वर्षों से यहां काम कर रहे हैं और औरंगाबाद के बारे में सब कुछ जानते हैं।

बिहार के औरंगाबाद सीट पर लोकसभा चुनाव के लिए मतदान पहले चरण में 19 अप्रैल को होगा। फिलहाल यह सीट भाजपा के पास है और यहां से सुशील कुमार मौजूदा सांसद हैं।

इस सीट पर राजद और कांग्रेस द्वारा दावा ठोकने के सवाल पर भाजपा बिहार इकाई के प्रवक्ता प्रभाकर मिश्रा ने कहा, ”महागठबंधन में सीट बंटवारे को लेकर फिलहाल लड़ाई चल रही है। यह महागठबंधन के जंगलराज को दर्शा रहा है। राजद तो हद पार कर गई है और किसी भी उम्मीदवार को टिकट दे रही है। उसने कांग्रेस पार्टी से औरंगाबाद सीट छीन ली। ऐसे में लालू प्रसाद के सामने सबसे पुरानी पार्टी कांग्रेस बेबस नजर आ रही है। जबकि निखिल कुमार के समर्थक राजद के इस कदम से नाराज हैं।”

उन्होंने आगे कहा कि निखिल कुमार के समर्थक भी अपनी ही पार्टी के शीर्ष नेतृत्व से नाराज हैं। उन्होंने राजद के सामने पूरी तरह से आत्मसमर्पण कर दिया है। ऐसे में कयास लगाए जा रहे हैं कि औरंगाबाद जिला कांग्रेस कमेटी के सदस्य लोकसभा चुनाव 2024 से पहले पार्टी से इस्तीफा दे सकते हैं।