गृह मंत्री अमित शाह ने राहुल गांधी से पूछे पांच सवाल, दक्षिणी सूबों में भी भाजपा के अच्छे प्रदर्शन का किया दावा

0
28

नई दिल्ली, 13 मई (आईएएनएस)। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने एनडीटीवी को दिए खास इंटरव्यू में कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी पर जमकर प्रहार किए। इसके साथ ही उन्होंने ओडिशा में पूर्ण बहुमत की सरकार बनाने और दक्षिण के 5 राज्यों केरल, कर्नाटक, तेलंगाना, आंध्र प्रदेश और तमिलनाडु में भाजपा को ज्यादा सीटें मिलने का दावा किया।

अमित शाह ने कहा कि ओडिशा की जनता लचर प्रशासन से त्रस्त आ चुकी है। ओडिशा की भाषा, संस्कृति, साहित्य का हर रोज अपमान हो रहा है। वहां के लोगों को रामलला की प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम में शामिल होने से रोका गया है। इस बार निश्चित तौर पर हम ओडिशा में लोकसभा की 17 सीटें जीतने जा रहे हैं और 4 जून के बाद ओडिशा में नया मुख्यमंत्री भारतीय जनता पार्टी का बनेगा।

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर निशाना साधते हुए अमित शाह ने कहा कि वह लोकसभा की 22 सीटों पर चुनाव लड़ रहे हैं और पूरे देश को बिजली मुफ्त देने की बात कर रहे हैं।

गृह मंत्री अमित शाह ने ‘भाजपा के 370 और एनडीए के 400 पार’ सीटें जीतने पर कहा कि हम यह दोनों आंकड़े पार करेंगे और 400 पार करके स्पष्ट बहुमत के साथ सरकार बनाएंगे। नरेंद्र मोदी तीसरी बार देश के प्रधानमंत्री बनेंगे। उन्होंने यह भी कहा कि अभी तक के मतदान के बाद भाजपा 190 लोकसभा सीट जीत चुकी है।

इंटरव्यू में अमित शाह ने राहुल गांधी के दो सीट से लोकसभा चुनाव लड़ने पर कहा कि उन्हें वायनाड की जनता को बताना चाहिए था कि वह रायबरेली से भी चुनाव लड़ने वाले हैं। वायनाड में मतदान हो गया और वहां की जनता को उन्होंने अंधेरे में रखा। जैसे ही वायनाड का चुनाव समाप्त हो गया और पोस्ट पोल सर्वे आए कि इस सीट से उनके हारने की संभावना है तो उसके बाद वह रायबरेली से चुनाव लड़ रहे हैं। लोकतंत्र में यह सब ठीक नहीं है। उन्हें जनता को मतदान करने से पहले बताना चाहिए कि मैं दो जगह से चुनाव लडूंगा।

इस दौरान अमित शाह ने राहुल गांधी से पांच सवाल भी पूछे –

क्या वो ट्रिपल तलाक को हटाने का समर्थन करते हैं, हां या ना?

क्या आप मुस्लिम पर्सनल लॉ लाना चाहते हैं, हां या ना?

क्या आप सर्जिकल स्ट्राइक का समर्थन करते हैं, हां या ना?

आप राम मंदिर दर्शन करने क्यों नहीं गए, इसका जवाब देश की जनता को दे सकते हैं, हां या ना?

आप आर्टिकल-370 हटाने का समर्थन करते हैं, हां या ना?