दिल्ली को राजस्थान के खिलाफ दिखाना होगा दम (पूर्वावलोकन)

0
12

जयपुर, 27 मार्च (आईएएनएस) गुरूवार को आईपीएल 2024 के 9वें मुक़ाबले में राजस्थान रॉयल्स का सामना दिल्ली कैपिटल्स से होगा। जहां दिल्ली को अपने पहले मैच में पंजाब किंग्स के ख़िलाफ़ चार विकेट से करारी हार का सामना करना पड़ा था, वहीं राजस्थान को लखनऊ सुपर जायंट्स के ख़िलाफ़ 20 रन की जीत मिली थी। अपने घरेलू मैदान जयपुर में राजस्थान जीत की इस लय को बरक़रार रखना चाहेगा, वहीं दिल्ली की नज़र सीज़न की पहले जीत पर होंगी।

दोनों टीमों के बीच अब तक 27 मुक़ाबले हुए हैं, जिसमें राजस्थान को 14, जबकि दिल्ली को 13 में जीत मिली है। इसका मतलब है कि मुक़ाबला बराबरी का है। हालांकि इस मैदान पर दोनों टीमों के बीच हुए छह मुक़ाबलों में घरेलू टीम 4-2 से आगे हैं।

क्या सैमसन को रोक पाएंगे दिल्ली के गेंदबाज़?:पहले ही मैच में राजस्थान के कप्तान संजू सैमसन ने 52 गेंदों पर नाबाद 82 रन बनाकर इरादे साफ़ कर दिए हैं कि विश्व कप में विकेटकीपर बल्लेबाज़ के दावेदार के रूप में वह भी शामिल हैं। एक कप्तान के रूप में उनका बल्लेबाज़ी रिकॉर्ड और भी बेहतरीन हो जाता है। कप्तान के रूप में उनका बल्लेबाज़ी स्ट्राइक रेट 145 का हो जाता है, जो कि वीरेंद्र सहवाग के 168 के बाद आईपीएल इतिहास में दूसरा सर्वाधिक है।

क्या नोर्त्जे अपनी फ़ॉर्म को वापस पा पाएंगे?: चोट के बाद अब अनरिख़ नोर्त्जे दिल्ली के दल में वापसी के लिए तैयार हैं। हालांकि जो प्रदर्शन उन्होंने 2020 और 2021 के आईपीएल के दौरान किया था, उसे वह 2022 और 2023 में बरक़रार नहीं रख पाए थे। 2020 में उन्होंने 16 मैचों में 22 विकेट लिए थे, जबकि 2021 में उन्होंने सिर्फ़ 6.16 की इकॉनमी से रन देते हुए 12 विकेट लिए थे। 2022 और 2023 में यह आंकड़ा घटकर क्रमशः छह मैचों में नौ विकेट और 10 मैचों में 10 विकेट हो गया। अब दिल्ली की उम्मीद होगी कि नोर्त्जे ना सिर्फ़ मैदान पर वापसी करें, बल्कि फ़ॉर्म में भी वापसी करें।

ट्रेंट बोल्ट और पावरप्ले: वैसे तो ट्रेंट बोल्ट पानी की तरह एकदम शांत दिखते हैं, लेकिन पावरप्ले में उनकी गेंदबाज़ी आग है। लखनऊ के ख़िलाफ़ पिछले दो मैचों में ही उन्होंने क्विंटन डिकॉक और देवदत्त पड़िक्कल को चलता किया था। राजस्थान ने अधिकतर समय उनका पावरप्ले में इस्तेमाल किया है, जहां पर उन्होंने आईपीएल 2022 से 22 विकेट लिए हैं। यह मोहम्मद शमी के 28 विकेटों के बाद इस चरण में दूसरा सर्वाधिक है। राजस्थान के गेंदबाज़ों ने पिछले दो वर्षों में पावरप्ले के दौरान 31 विकेट झटके हैं, जिसमें 71 फीसदी (22 विकेट) सिर्फ़ बोल्ट के हैं। पावरप्ले में बोल्ट की इकॉनमी भी सिर्फ़ 6.81 की रही है।

ऋषभ पंत पर दारोमदार : पहले मुकाबले में पंत पंजाब के खिलाफ कुछ ख़ास नहीं कर पाए थे और 18 रन बनाकर आउट हो गए थे। दिल्ली के मुख्य कोच रिकी पोंटिंग को पंत के फॉर्म में लौटने की पारी उम्मीद है। दिल्ली की कामयाबी के लिए पंत की विस्फोटक बल्लेबाजी महत्वपूर्ण होगी।

दिल्ली को भी अपनी गेंदबाज़ी और अपनी रणनीति पर विचार करने की ज़रूरत है। दिल्ली पिछले मैच में चार विदेशी बल्लेबाज़ों के साथ मैदान में उतरी थी लेकिन उनके पास गेंदबाज़ी में मुकेश कुमार का विकल्प नहीं था। इसका खमियाज़ा दिल्ली को गेंदबाज़ी के दौरान भुगतना पड़ा जब खलील अहमद महंगे साबित हुए और इशांत शर्मा को टखने की चोट के चलते मैदान के बाहर जाना पड़ा। इशांत की अनुपस्थिति में मार्श गेंद के साथ अपना असर नहीं छोड़ पाए। हालांकि खलील ने अंत में दो विकेट ज़रूर चटकाए लेकिन तब तक काफ़ी देर हो चुकी थी।

–आईएएनएस

आरआर/