पानी संकट से जूझ रहे हरियाणा को ‘आप’ नेता सुशील गुप्ता ने दी केजरीवाल से सीखने की सलाह

0
8

चंडीगढ़, 31 मई (आईएएनएस)। दिल्ली ही नहीं, बल्कि हरियाणा और राजस्थान में भी लोग पानी संकट झेल रहे हैं। पानी का यह संकट भीषण गर्मी के चलते पैदा हुआ है। राजस्थान के मुख्यमंत्री भजन लाल शर्मा ने जहां राज्य में पानी की किल्लत को लेकर पूर्व की कांग्रेस सरकार को जिम्मेदार ठहराया, वहीं केजरीवाल सरकार में मंत्री आतिशी ने दिल्ली में जारी पानी संकट को लेकर हरियाणा सरकार को दोषी बताया है।

वहीं, अब हरियाणा आम आदमी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष डॉ सुशील गुप्ता का इस पर बयान सामने आया है। उन्होंने हरियाणा में पानी संकट होने की बात कही है। इसके लिए उन्होंने प्रदेश की मौजूदा सरकार को दोषी ठहराया है। इसके अलावा, उन्होंने हरियाणा सरकार को पानी की किल्लत से निपटने के लिए केजरीवाल सरकार से सीखने की हिदायत दी।

उन्होंने कहा, “आज की तारीख में अगर कहीं पानी की सबसे ज्यादा किल्लत है, तो वो है हरियाणा। पूरे प्रदेश में पानी के लिए मारामारी है और यह सब कुछ सरकार के कुप्रबंधन की वजह से हो रहा है। प्रदेश में पानी रहते हुए सरकार इसका उपयोग नहीं कर पा रही है। इससे फसल भी खराब हो रही है। पानी की बर्बादी रोकने के लिए सरकार कुछ नहीं कर रही है। कई इलाके ऐसे हैं, जहां लोग पानी की एक-एक बूंद के लिए तरस रहे हैं। 50 डिग्री के ऊपर तापमान पहुंच चुका है, लेकिन हरियाणा सरकार पानी के समान वितरण के लिए कुछ नहीं कर पा रही है। कोई नया प्लान इन लोगों ने नहीं बनाया है। पीने का पानी गांवों तक नहीं पहुंच पा रही है। लोग त्राहि-त्राहि कर रहे हैं। हरियाणा सरकार के कुप्रबंधन का खामियाजा जनता को भुगतना पड़ रहा है।“

उन्होंने आगे कहा, “आक्रोश में आकर लोग गली मोहल्लों में मटके फोड़ रहे हैं। हर घर के अंदर पानी की किल्लत हो रही है। वहीं, दिल्ली में केजरीवाल की सरकार है, जहां अभी पानी की भारी कमी है। चारों तरफ से पानी रुक गया है, लेकिन इसके बावजूद भी सरकार मैनेज कर रही है। सरकार कैसे भी कर लोगों तक पानी पहुंचा रही है। एक ‘समर एक्शन प्लान’ तैयार किया गया है, जिसमें यह तय किया गया है कि कैसे पानी का उपयोग करें। पानी का एक समान वितरण कैसे करें। टैंकर माफिया को कैसे खत्म करें। हरियाणा सरकार को यह सब आम आदमी पार्टी से सीखना चाहिए। हरियाणा सरकार को दिल्ली सरकार से ट्रेनिंग लेनी चाहिए। हरियाणा को भी दिल्ली सरकार की तर्ज पर समर एक्शन प्लान तैयार करना चाहिए, ताकि पानी को बर्बाद होने से रोका जाए।“

उधर दिल्ली में पानी के संकट पर आदमी आदमी पार्टी और भारतीय जनता पार्टी में जुबानी जंग चल रही है।