पीएम मोदी, असम के सीएम की शिकायत लेकर चुनाव आयोग पहुंची कांग्रेस

0
11

नई दिल्ली, 29 मई (आईएएनएस)। कांग्रेस ने बुधवार को चुनाव आयोग से भाजपा और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की शिकायत की। पीएम 30 मई की शाम को कन्याकुमारी स्थित विवेकानंद रॉक मेमोरियल जा रहे हैं जहां वह ध्यान करेंगे। कांग्रेस ने चुनाव आयोग से कहा है कि 1 जून को होने वाले अंतिम चरण के मतदान से पहले पीएम का यह कार्यक्रम आचार संहिता का उल्लंघन है।

चुनाव आयोग से शिकायत के उपरांत बुधवार शाम कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा कि ये वे तौर तरीके हैं जिससे या तो आप कैंपेनिंग कर रहे हैं या अपने-आप को प्रसारित कर रहे हैं। उन्होंने कहा या तो प्रधानमंत्री इसे 24-48 घंटे बाद प्रारंभ करें या फिर इसका प्रसारण किसी भी प्रकार की मीडिया में न हो। प्रधानमंत्री 1 जून की शाम को हर प्रकार का आध्यात्मिक, मौन व्रत रख सकते हैं।

उन्होंने कहा कि चुनाव के 48 घंटे पहले कोई भी नेता प्रत्यक्ष या परोक्ष रूप से कैंपेनिंग नहीं कर सकता। हमें कोई आपत्ति नहीं है, वह कुछ भी करें, मौन व्रत रखें या कैंपेन करें, लेकिन चुनाव से पहले साइलेंस पीरियड में इनडायरेक्ट कैंपेनिंग नहीं होनी चाहिए। सिंघवी ने कहा की आखिरी चरण के चुनाव में प्रधानमंत्री स्वयं भी उम्मीदवार हैं और ऐसे में साइलेंस पीरियड के दौरान इस प्रकार का प्रचार नहीं होना चाहिए।

सिंघवी ने चुनाव आयोग के समक्ष ‘बीजेपी फॉर इंडिया’ के आधिकारिक हैंडल से चलाए जा रहे कैंपेन का मुद्दा भी रखा। सिंघवी ने बताया कि कांग्रेस के खिलाफ आधिकारिक हैंडल से कम्युनल और गलत प्रचार किया जा रहा है। कांग्रेस द्वारा चुनाव आयोग से मांग की गई कि इस प्रकार के प्रचार पर तुरंत रोक लगनी चाहिए।

सिंघवी ने कहा कि राहुल गांधी के भाषण को भी विकृत करके प्रसारित किया जा रहा है। उन्होंने कहा, राहुल गांधी ने कहा था, “आप नोट कर लीजिए, 4 तारीख के बाद ये प्रधानमंत्री के पद पर नहीं रहेंगे।” इस वीडियो को विकृत करके चलाया गया। वीडियो से छेड़छाड़ की गई और कहा गया कि “4 तारीख के बाद नरेंद्र मोदी ही प्रधानमंत्री बनेंगे”। उन्होंने कहा कि यह मिथ्या प्रचार है।

कांग्रेस ने असम के मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा शर्मा की भी शिकायत चुनाव आयोग से की है। सिंघवी ने कहा कि असम के मुख्यमंत्री ने बार-बार ने ऐसे शब्दों का उपयोग किया है जिनका उपयोग 75 वर्षों में अब तक किसी प्रधानमंत्री या मुख्यमंत्री ने नहीं किया। कांग्रेस नेता अभिषेक मनु सिंघवी ने आरोप लगाया कि “हिमंता कहते हैं कि आपने 300 सीटें दीं तो राम मंदिर बना दिया, अब 400 से ज्यादा देंगे तो हम मस्जिदों को तोड़कर वाराणसी और मथुरा में मंदिर बना देंगे”।