बिहार विधान परिषद में जदयू और कांग्रेस की घटेगी ताकत

0
23

पटना, 12 मार्च (आईएएनएस)। बिहार विधान परिषद की रिक्त होने वाली 11 सीटों पर चुनाव के लिए 11 प्रत्याशियों ने नामांकन का पर्चा दाखिल किया है। ऐसे में सभी प्रत्याशियों का निर्विरोध निर्वाचन तय माना जा रहा है। इस स्थिति में साफ है कि विधान परिषद में कांग्रेस और जदयू की ताकत कम हो जाएगी।

विधान परिषद में पहली बार भाकपा माले का सदस्य भी पहुंच जाएगा। परिषद की रिक्त हो रही 11 सीटों के लिए होने वाले चुनाव के लिए जदयू के अध्यक्ष नीतीश कुमार तथा खालिद अनवर, हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा के संतोष कुमार सुमन तथा भाजपा की ओर से पूर्व मंत्री मंगल पांडेय, अनामिका सिंह और मोहन लाल गुप्ता ने नामांकन भरा है।

दूसरी तरफ राजद की ओर से पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी, अब्दुल बारी सिद्दीकी, उर्मिला ठाकुर, सैयद फैसल अली तथा भाकपा माले की शशि यादव ने नामांकन का पर्चा दाखिल किया है। विधान परिषद में 5 मई को सत्ता पक्ष के आठ और विपक्ष के तीन सदस्यों का कार्यकाल पूरा हो रहा है।

नामांकन पत्रों की जांच 12 मार्च को होगी। 14 मार्च तक नामांकन वापस लिए जा सकते हैं। अब तय माना जा रहा है कि उसी दिन सभी अभ्यर्थी निर्विरोध निर्वाचित घोषित कर दिए जाएंगे। इसके बाद, विधान परिषद में कांग्रेस के विधान पार्षदों की संख्या चार की जगह तीन रह जाएगी। जबकि, जदयू के सदस्यों की संख्या 23 से घटकर 21 हो जाएगी।

राजद के सदस्यों की संख्या 15 हो जाएगी। भाकपा माले की उपस्थिति अभी तक विधानसभा तक ही थी। लेकिन, पहली बार उसकी उपस्थिति विधान परिषद में भी हो जाएगी।