राहुल गांधी के नेतृत्व में कांग्रेस को मिली तीसरी सबसे बड़ी हार : भाजपा

0
7

नई दिल्ली, 8 जून (आईएएनएस)। लोकसभा चुनाव के नतीजे आने के बाद नई सरकार के गठन को लेकर सब कुछ तय हो चुका है। सदन में बहुमत प्राप्त एनडीए के नेता के तौर पर राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू द्वारा मनोनीत किए गए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रविवार को एक बार फिर पीएम पद की शपथ लेने जा रहे हैं।

लेकिन चुनाव परिणाम को लेकर कांग्रेस और भाजपा के बीच बयानबाजी का दौर लगातार जारी है। कांग्रेस द्वारा नैतिक हार का सवाल उठाने पर पलटवार करते हुए भाजपा राष्ट्रीय सचिव मनजिंदर सिंह सिरसा ने कहा है कि राहुल गांधी के नेतृत्व में लोकसभा चुनाव में कांग्रेस की तीसरी सबसे बड़ी हार हुई है और अगर उनमें जरा सी भी नैतिकता बची हो तो गांधी परिवार को कांग्रेस छोड़कर उससे दूर हो जाना चाहिए।

सिरसा ने कहा कि कांग्रेस, जिसमें खुद कोई नैतिकता नहीं बची है, वो नैतिकता के ऊपर ज्ञान बांट रही है। राहुल गांधी कांग्रेस की जीत का श्रेय ले रहे हैं जबकि हैरानी इस बात की है कि इस बार के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस की तीसरी सबसे बड़ी हार हुई है और तीनों हार राहुल गांधी के ही प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष नेतृत्व में हुई है। कांग्रेस पार्टी की हालत यह है कि दो दर्जन से ज्यादा सीटों पर उनके उम्मीदवारों की जमानत जब्त हो गई। उनके नेता को दो सीटों से चुनाव लड़ना पड़ा और चुनाव नतीजे आते ही गठबंधन की सहयोगी आम आदमी पार्टी, कांग्रेस को छोड़कर भाग गई।

उन्होंने कटाक्ष करते हुए कहा कि राहुल गांधी कांग्रेस को तीसरी सबसे बड़ी हार का सामना करने पर बधाई दे रहे हैं। यह भारत के लोकतंत्र की खूबसूरती भी है कि चुनाव जीतने वाले विनम्रता और नम्रता के साथ अपनी बात रख रहे हैं, वहीं चुनाव हारने वाले कूद-कूद कर नैतिकता की बातें कर रहे हैं।

सिरसा ने आगे कहा कि राहुल गांधी अपने गिरेबान में जरा झांक कर देखें, कांग्रेस को तबाह करने वाले लोग वे ही हैं और अगर उनमें जरा सी भी नैतिकता बची है तो गांधी परिवार को कांग्रेस छोड़कर उससे दूर हो जाना चाहिए।