शोकग्रस्त नेताओं ने दिवंगत सुशील मोदी को खूब किया याद, किसी ने करीबी दोस्त की तरह तो किसी ने पारिवारिक सदस्य के तौर पर

0
10

पटना, 14 मई (आईएएनएस)। बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी के निधन पर तमाम नेताओं ने शोक संवेदना व्यक्त की है। पार्थिव शरीर के अंतिम दर्शन करने पहुंचे बिहार प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष अखिलेश प्रसाद सिंह ने कहा कि सुशील मोदी की बिहार की राजनीति में एक महत्वपूर्ण भूमिका रही है। वे जब तक रहे, भाजपा के लिए एक स्तंभ का काम किया।

उन्होंने कहा कि वे गंभीर बीमारी से जूझ रहे थे। उनके निधन से मुझे दुख हुआ है। वे बिहार की राजनीति में कई महत्वपूर्ण पदों पर रहे। बिहार विधानसभा में विरोधी दल के नेता रहे और प्रदेश के उपमुख्यमंत्री के रूप में भी काम किया। उनके साथ नजदीकी से काम करने का अवसर मिला। वो एक जुझारू किस्म के राजनीतिज्ञ थे और बिहार की राजनीति में उनकी कमी हमेशा खलेगी।

बिहार के उपमुख्यमंत्री विजय सिन्हा ने कहा कि सुशील मोदी बेहद सरल और सुलभ राजनेता रहे। उनका राजनीतिक जीवन बेदाग रहा। यह अपूरणीय क्षति है। इसकी भरपाई निकट भविष्य में संभव नहीं है। हमारे जैसे कार्यकर्ता को उन्होंने आगे बढ़ाने का काम किया। उनके अंदर संगठनात्मक कौशल था, जो सबको साथ लेकर चलते थे।

राजीव प्रताप रूडी ने कहा कि वो प्रेरक और मार्गदर्शक थे। वो परिवार के सदस्य थे। उनके जाने से बिहार के करोड़ों लोग अपने परिवार का नुकसान समझते हैं। वो ईमानदार और अच्छे इंसान होने के साथ दोस्तों के दोस्त थे।

भाजपा के वरिष्ठ नेता अश्विनी कुमार चौबे ने कहा कि उनसे निकटता थी। देश के साथ बिहार का बड़ा नुकसान है। मेरे अनन्य सहयोगी रहे, आज मैं खुद को अकेला महसूस कर रहा हूं।

केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने कहा कि सुशील मोदी के निधन से बिहार मर्माहत है। उनके निधन से राजनीतिक क्षेत्र में जो शून्य पैदा हुआ है, उसकी भरपाई संभव नहीं है। छात्र जीवन से लेकर अंतिम समय तक समाज ही उनके जीवन में रहा। बिहार भाजपा में सामाजिक परिवर्तन लाने में उनकी अहम भूमिका रही। उन्होंने राजनीति में मनभिन्नता किसी से नहीं रखा, मतभिन्नता रखा। उन्होंने भ्रष्टाचार के खिलाफ निर्भीक और निडर होकर लड़ाई लड़ी।

लोजपा (रामविलास) के प्रमुख चिराग पासवान ने कहा कि वो हमारे लिए प्रेरणास्रोत रहे। वो हमारे अभिभावक और परिवार के सदस्य की तरह थे। उनको हम भावभीनी श्रद्धांजलि देते हैं। वो हमारे पिता रामविलास जी के साथ हमेशा सहयोगी और साथी की भूमिका में रहे। दोनों की जोड़ी अक्सर चुनाव प्रचार में देखने को मिलती थी। ऐसे में मेरे लिए दोहरी क्षति है।

राजद नेता तेजस्वी यादव ने कहा कि सुशील मोदी का निधन बहुत ही दुखद खबर है। कल रात में हमें सूचना मिली कि उनका निधन हो गया है। हम ईश्वर से प्रार्थना करते हैं कि उनकी आत्मा को शांति मिले। इस दुख की घड़ी में उनके परिवार के साथ हमारी पूरी संवेदना है। लालू जी से सुशील मोदी जी का रिश्ता छात्र जीवन से ही रहा है। भले ही दोनों नेता अलग-अलग पार्टियों की राजनीति करते रहे हैं या अलग-अलग विचारधारा की राजनीति करते हो, हम लोगों के जो संबंध थे, वह बहुत बढ़िया थे।

बिहार के पूर्व सीएम जीतन राम मांझी ने सुशील कुमार मोदी के निधन पर उन्हें भावभीनी श्रद्धांजलि देते हुए कहा कि मैं समझता हूं कि राजनीति जगत का चमकता सितारा अस्त हो गया है। कब उजाला आएगा, समझ नहीं आता। उनसे हमारा निजी संबंध रहा है। उनके जाने से ‘हम’ और हमारा परिवार दुखी है। भगवान उनकी आत्मा को शांति दें।