स्वामी विवेकानंद की पुण्यतिथि पर पीएम मोदी, अमित शाह सहित तमाम दिग्गजों ने दी श्रद्धांजलि

0
8

नई दिल्ली, 4 जुलाई (आईएएनएस)। स्वामी विवेकानंद की 122वीं पुण्यतिथि पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोशल मीडिया के जरिए उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की। पीएम ने लिखा कि उनकी शिक्षा लोगों को ताकत देती है। वहीं केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह और भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा ने भी स्वामी जी के ओजस्वी विचारों को नमन किया।

प्रधानमंत्री मोदी ने स्वामी विवेकानंद के समृद्ध और प्रगतिशील समाज निर्माण के सपने को पूरा करने के लिए अपनी प्रतिबद्धता दोहराई। ‘एक्स’ पोस्ट में कहा, ‘‘मैं स्वामी विवेकानंद को उनकी पुण्यतिथि पर श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं। उन्होंने जो शिक्षा दी, वो लाखों लोगों को बल देती है। उनकी बुद्धिमत्ता और ज्ञान की अथक खोज भी बहुत प्रेरक है। हम एक समृद्ध और प्रगतिशील समाज के उनके सपने को पूरा करने के लिए अपनी प्रतिबद्धता दोहराते हैं।’’

गृहमंत्री अमित शाह ने स्वामी विवेकानंद के आदर्शों को सनातन संस्कृति के अनुरूप बताया। उन्होंने कहा, पूरे विश्व को भारतीय संस्कृति व दर्शन की ज्योति से आलोकित करने वाले युवाओं के प्रेरणा पुंज स्वामी विवेकानंद जी के निर्वाण दिवस पर उन्हें कोटिशः नमन। स्वामी विवेकानंद जी ने सनातन संस्कृति के दिव्यतम आदर्शों को और भी विश्वव्यापी बनाया और शिकागो विश्व धर्म परिषद के माध्यम से विश्व को पुनः भारतीय तत्वज्ञान से अवगत कराया।

केंद्रीय मंत्री ने आगे लिखा, रामकृष्ण मठ, रामकृष्ण मिशन और वेदांत सोसाइटी की स्थापना कर उन्होंने भारतीय ज्ञान परम्परा के अध्ययन और पालन को सशक्त माध्यम दिया। उन्होंने युवाओं में देश प्रेम के संस्कार पल्लवित कर उन्हें राष्ट्रप्रथम के मार्ग पर चलने के लिए प्रेरित किया। स्वसंस्कृति व स्वधर्म के पथ पर स्वामी विवेकानंद जी के सन्देश युगों-युगों तक दिशा दिखाते रहेंगे।

वहीं, केंद्रीय मंत्री और भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने युग प्रवर्तक स्वामी विवेकानंद को सनातन की सूर्य आभा की मानिंद बताया। उन्होंने भी एक्स पर अपने भाव जाहिर किए। लिखा- युग प्रवर्तक स्वामी विवेकानंद जी ने भारत की वैभवशाली संस्कृति व ज्ञान-परंपरा को संपूर्ण विश्व में प्रसारित कर विश्व-बंधुत्व और मानवता के पथ प्रशस्त किए। आज उनके निर्वाण दिवस पर शत-शत नमन करता हूं। स्वामी जी के ओजस्वी विचार युग-युगान्तर कर सनातन के सूर्य की आभा बनकर समग्र संसार को मार्गदर्शन प्रदान करती रहेंगी।