हर ईवीएम की जांच पड़ताल करें काउंटिंग एजेंट : आम आदमी पार्टी

0
13

नई दिल्ली, 3 जून (आईएएनएस)। लोकसभा चुनाव की वोटों की गिनती को लेकर कई राजनीतिक दलों ने अपने काउंटिंग एजेंटों को ट्रेनिंग दी है। आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव और राज्यसभा सांसद डॉ. संदीप पाठक ने सोमवार को ‘आप’ के काउंटिंग एजेंटों को ट्रेनिंग दी। इसके लिए पार्टी मुख्यालय में ट्रेनिंग सेशन आयोजित किया गया।

इसमें सभी काउंटिंग एजेंटों से कहा गया कि उनको सुबह 6 बजे तक अपने-अपने मतगणना केंद्र पर पहुंच जाना है। जब तक एक-एक वोट की गिनती नहीं हो जाती तब तक किसी भी एजेंट को मतगणना केंद्र छोड़कर नहीं जाना है। मतगणना के दौरान अगर काउंटिंग एजेंट को किसी भी तरह का कोई शक होता है तो उसे तुरंत अपनी शिकायत रिटर्निंग ऑफिसर के पास दर्ज करानी है। किसी भी हाल में काउंटिंग एजेंट को चुप नहीं रहना है। काउंटिंग एजेंट को हर ईवीएम का नंबर और मशीन को खोलने का समय जरूर मैच करना है। उनको एक-एक वोट की गिनती पर कड़ी नजर बनाए रखनी है।

संदीप पाठक ने कहा कि चुनाव आयोग के दिशानिर्देश के अनुसार सबसे पहले पोस्टल बैलट की गिनती की जाएगी। यदि पोस्टल बैलट की गिनती को बाद में करने का प्रयास हो तो तुरंत अपनी आपत्ति दर्ज करानी है और सबसे पहले पोस्टल बैलट की गिनती करवाने पर जोर देना है। ईवीएम में मतदान की तारीख और मतगणना की तारीख को चेक करना है और उसे अपनी शीट में लिख लेना है। ईवीएम में मतदान शुरू होने से लेकर मतदान खत्म होने तक का समय चेक करना है।

ट्रेनिंग में मौजूद लोकसभा प्रत्याशी सोमनाथ भारती ने कहा कि हम सबके अंदर एक शक आ गया है कि जिस तरीके से पूरे देश और दिल्ली में मतदान हुआ है, एग्जिट पोल उसके उलट दिखाए जा रहे हैं। हमने यह फैसला लिया है कि अपने काउंटिंग एजेंट को हर परिस्थिति के लिए तैयार करना है। काउंटिंग के दौरान होने वाली तकनीकी चीजों के बारे में एजेंटों को अवगत कराया गया है। काउंटिंग एजेंटों को यह सुनिश्चित करना है कि जो ईवीएम बॉक्स खुले हैं, वह बॉक्स उसी बूथ के होने चाहिए। काउंटिंग एजेंट को कंट्रोल यूनिट, बैलट यूनिट और वीवीपैट यूनिट का नंबर भी मिलाना है। कब बॉक्स आखिरी बार खुला और कब आखिरी बार बंद किया गया है, इन सारी चीजों को चेक करना है। फार्म 17सी पर जो जानकारी दी गई है, उसका मिलान करना है।

उन्होंने कहा कि हमने अपने काउंटिंग एजेंट को यह सुनिश्चित करने के लिए कहा है कि किसी भी तरह की कोई चूक नहीं होनी चाहिए। ट्रेनिंग एजेंट को किसी भी तरीके से गलत बात को नहीं मानना है। अगर आपकी ईवीएम के नंबर का मिलान नहीं हो रहा है तो तुरंत अपनी आपत्ति दर्ज कराएं। जो ईवीएम खुल रही है, उसकी सील के साथ कोई छेड़खानी तो नहीं की गई है? जब मशीन को खोला जाएगा तो उसकी टाइमिंग का मिलान करना है।