केजरीवाल को झूठ बोलने की बीमारी है : वीरेंद्र सचदेवा

0
12

नई दिल्ली, 31 मई (आईएएनएस)। अंतरिम जमानत की मियाद मुकम्मल होने के बाद दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल दो जून को तिहाड़ जेल वापस जा रहे हैं। इससे पहले उन्होंने दिल्ली की जनता के नाम अपना एक संदेश जारी किया जिसमें उन्होंने बीजेपी पर जमकर हमला बोला। इस पर अब भाजपा ने पलटवार किया है।

दिल्ली बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष वीरेंद्र सचदेवा ने, “केजरीवाल ने कहा है कि उन्हें बहुत गंभीर बीमारी है और मैं उनकी इस बात से सहमत हूं। दरअसल, उन्हें झूठ बोलने की बहुत गंभीर बीमारी है। उनका एक टेस्ट करना होगा, जिसके बाद शाम तक पता चल जाएगा कि वो किन-किन बीमारियों से जूझ रहे हैं, लेकिन वो झूठी बीमारी का बहाना बनाकर लोगों से झूठी सहानुभूति लेने का काम कर रहे हैं। इस तरह के झूठे प्रपंच रचना, उनकी आदत और स्वभाव में शुमार है। अब अगर वो इतने ही ज्यादा गंभीर बीमार थे, तो वो प्रचार कैसे कर रहे थे? वो बीते दिनों उत्तर प्रदेश भी गए, दिल्ली भी गए और भीषण गर्मी के बावजूद पंजाब भी गए। उन्होंने कहा है कि उनकी यूरिन में कीटोन बढ़ गए हैं और कीटोन बढ़ने का सबसे बड़ा कारण होता है, जब आप गर्मी में घूमते हैं। मुझे तो लगता है कि कई बार वह खुद भी बीमारियों को आमंत्रित करते हैं कि कैसे भी करके मेडिकल बोर्ड के सामने अपनी बीमारियों को दिखाया जाए। लेकिन ठीक है, न्यायालय अपना काम कर रहा है। अब सबको पता है कि वो जेल जा रहे हैं।“

उन्होंने आगे कहा, “बेशक केजरीवाल तमाम बहाने बना लें, लेकिन एक बात साफ है कि दिल्ली में भ्रष्टाचार और पानी संकट का अगर कोई जिम्मेदार है, तो वो हैं केजरीवाल।उन्होंने दिल्ली को लूटा है। उन्होंने दिल्ली को शराब की नगरी बनाने का काम किया। उन्हें फक्र है कि उन्होंने शराब की काली कमाई में दलाली खाई है। उन्हें फक्र होना चाहिए कि उन्होंने सरकारी अस्पतालों में नकली दवाओं की आपूर्ति करवाई। उन्हें फक्र होना चाहिए कि उन्होंने मोहल्ला क्लीनिक बनवाकर उसमें से पैसा खाया है। उन्हें फक्र होना चाहिए कि दिल्ली के स्कूल बनाने के नाम पर उन्होंने बच्चों को ठगा है। उन्हें फक्र होना चाहिए कि उन्होंने कैसे दिल्ली जल बोर्ड को लूटने का काम किया।“

वहीं जल संकट के मुद्दे पर केजरीवाल की चुप्पी पर सवाल उठाते हुए वीरेंद्र सचदेवा ने कहा, “पानी के मामले में केजरीवाल कुछ भी बोलने की स्थिति में नहीं हैं, क्योंकि इसे लेकर वो लगातार राजनीति कर रहे हैं। दिल्ली में अगर आज मेरी माताएं-बहनें एक-एक बूंद के लिए पानी के डिब्बे लेकर घूम रही हैं, तो इसके जिम्मेदार केजरीवाल हैं, मुझसे यह दृश्य देखा नहीं जाता। केजरीवाल जल बोर्ड को लूट कर खा गए। वह हरियाणा पर आरोप लगा रहे हैं, लेकिन हरियाणा समझौता के अनुरूप लगातार पानी दे रहा है। मेरे पास इसके पूरे आंकड़े हैं। इस सरकार में बड़ी मात्रा में पानी चोरी हो जाती है और शेष पानी टैंकर माफियाओं के हाथ बेच दिया जाता है, जिसका इनके पास कोई हिसाब नहीं है। इनके विधायक पैसे लेकर पानी बेचने का काम कर रहे हैं।“

वीरेंद्र सचदेवा ने आगे कहा, “ये लोग कह रहे हैं कि आप एक कॉल कीजिए, टैंकर आएगा, मैं दावा करता हूं कि टैंकर नहीं आएगा। टैंकर अगर आएंगे भी तो 200-300 आएंगे और बाकी के टैंकर सिर्फ कागजों में दर्ज रहेंगे, जिसका पैसा ऊपर से लेकर नीचे तक लोगों के बीच बांटा जाएगा। इन लोगों ने 200 लोगों की टीम बनाई है, जिनका काम पानी की बर्बादी को रोकने की निगरानी करना है। इन लोगों को पानी की बर्बादी होने पर 2 हजार रुपए जुर्माना लेने के लिए कहा गया है। मैं दावा करता हूं कि अब ये लोग इसमें भी घोटाला करेंगे। यही अरविंद केजरीवाल का प्रशासन है।“

बांसुरी स्वराज ने भी दिल्ली में जारी पानी की किल्लत को लेकर सीएम केजरीवाल पर निशाना साधा। उन्होंने कहा, “अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली में लोगों के लिए पानी का संकट पैदा किया है, ताकि उनकी सरकार भ्रष्टाचार कर टैंकर माफियाओं को प्रोत्साहित कर सके। आईएमडी ने इस बार पहले कह दिया था कि दिल्ली में भीषण गर्मी पड़ने वाली है, लेकिन इसके बावजूद भी कोई ‘समर एक्शन प्लान’ तैयार नहीं किया गया और ना ही इन्होंने कोई बैठक बुलाई, जो दिल्ली जल बोर्ड 2013 में 600 करोड़ के मुनाफे में था। आज वही घाटे में है। केजरीवाल की सरकार निकम्मी है, जो प्रचार, प्रसार और भ्रष्टाचार में लिप्त रहती है। दिल्ली में अगर आज लोग बूंद-बूंद पानी के लिए तरस रहे हैं, तो इसके जिम्मेदार केजरीवाल हैं।“