तीन साल में ल्साहा-न्यिंगची रेलवे से स्थानीय लोगों को मिला बेहतर यात्रा अनुभव

0
13

बीजिंग, 27 जून (आईएएनएस)। 25 जून 2021 को, तिब्बत स्वायत्त प्रदेश में ल्हासा-न्यिंगची रेलवे का संचालन शुरू हुआ, तब से अब तक, पिछले 3 सालों में इस रेलवे से 30 लाख 37 हज़ार यात्रियों और 7 लाख 83 हज़ार टन माल का परिवहन किया गया है।

तिब्बत स्वायत्त प्रदेश की राजधानी ल्हासा से न्यिंगची शहर तक चलने वाले इस रेल मार्ग की कुल लंबाई 435 किलोमीटर है, जिसका 90 प्रतिशत से अधिक हिस्सा समुद्र तल से 3,000 मीटर से ऊपर है और यह यालुचांगबू (भारत में ब्रह्मपुत्र) नदी को 16 बार पार करता है।

ल्हासा-न्यिंगची रेलवे 160 किलोमीटर प्रति घंटे की डिजाइन गति के साथ तिब्बत का पहला विद्युतीकृत रेलवे है। यह ल्हासा, शन्नान और न्यिंगची तीन शहरों को कवर करता है, और कोंगगर, ज़ानांग, सांगरी, च्याछा, लांगश्येन, मिलीन आदि काउंटियों से गुजरता है।

इस रेलवे ने तिब्बत के परिवहन नेटवर्क के लेआउट को अनुकूलित और बेहतर बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। ल्हासा-न्यिंगची रेलवे ने ल्हासा से न्यिंगची और अन्य शहरों तक यात्रा के समय को बहुत कम कर दिया है, परिवहन दक्षता में सुधार किया है और स्थानीय निवासियों और पर्यटकों के लिए अधिक सुविधाजनक और आरामदायक यात्रा अनुभव लाया है।

इसके साथ ही, यह स्थानीय लोगों के लिए अधिक रोजगार और उद्यमशीलता के अवसर भी प्रदान करता है। इसके अलावा, ल्हासा-न्यिंगची रेलवे के खुलने से स्थानीय कृषि उत्पादों को अन्य स्थानों तक ले जाना भी आसान हो गया है। लाइव स्ट्रीमिंग जैसी नई बिक्री विधियों के माध्यम से, न्यिंगची शहर में लांगश्येन काउंटी में मिर्च की बिक्री में काफी वृद्धि हुई है, जिससे स्थानीय किसानों को ठोस लाभ हुआ है।

(साभार- चाइना मीडिया ग्रुप, पेइचिंग)