सेना के बैंड के साथ खुले गंगोत्री धाम के कपाट, की गई विशेष पूजा-अर्चना

0
12

उत्तरकाशी, 10 मई (आईएएनएस)। अक्षय तृतीया से उत्तराखंड की विश्व प्रसिद्ध चारधाम यात्रा 2024 का आगाज हो गया। शुक्रवार को वैदिक मंत्रोच्चार, धार्मिक अनुष्ठान और जय मां गंगा के जयकारों के साथ पूरे विधि विधान से गंगोत्री धाम के भी कपाट श्रद्धालुओं के लिए खोल दिए गए। यहां सेना के बैंड बाजों की अगुवाई के साथ गंगोत्री धाम के कपाट 12:25 मिनट पर खोल दिए गए।

शुक्रवार सुबह साढ़े सात बजे भैरों घाटी से गंगा जी की डोली यात्रा गंगोत्री के लिए रवाना हुई। साढ़े नौ बजे डोली गंगोत्री पहुंची और यहां गंगा लहरी एवं गंगा सहस्त्रनाम पाठ के साथ ही हर-हर गंगे के जयकारों से पूरा गंगोत्री गूंज उठा। साथ ही यहां आए सभी भक्त इस पल के साक्षी बने।

शुक्रवार सुबह ही गंगोत्री धाम के कपाट खोलने के लिए मां गंगा की डोली ने भैरव घाटी से प्रस्थान किया था। इससे पहले भैरव घाटी में मां गंगा की विशेष पूजा अर्चना की गई। जिसके बाद मां गंगा की डोली यात्रा गंगोत्री धाम के लिए रवाना हुई। धाम में गंगा की विशेष पूजा-अर्चना की गई।

हर्षिल छावनी में तैनात सेना के जवानों ने गंगोत्री मंदिर के कपाट खुलने के दौरान हमेशा अपनी सक्रिय भागीदारी निभाई है। मुखबा से गंगोत्री तक गंगा जी की डोली यात्रा सेना के बैंड बाजों की अगुवाई में निकली। साथ ही सेना ने गंगोत्री में निशुल्क भंडारा और मेडिकल कैंप का भी आयोजन किया है।