बिहार में एनडीए के प्रदर्शन की समीक्षा, विधायकों का भी तैयार होगा लेखा-जोखा

0
7

पटना, 6 जून (आईएएनएस)। लोकसभा चुनाव परिणाम के बाद राजनीतिक दलों में अब समीक्षा का दौर शुरू हो गया है। जानकारी के अनुसार इस चुनाव के नतीजे के जरिए विधायकों का भी लेखा-जोखा तैयार किया जाएगा। चुनाव में महागठबंधन को लाभ हुआ है जबकि एनडीए को नुकसान।

चुनाव प्रचार के दौरान महागठबंधन के कई नेता यह कहते नजर आ रहे थे कि हमारे पास खोने के लिए कुछ भी नहीं है। पिछले लोकसभा चुनाव में महागठबंधन बिहार में मात्र एक सीट जीत पाया था। जबकि, इस चुनाव में राजद को चार सीटें मिली हैं। इसके अलावा कांग्रेस को तीन और वामपंथी दलों को दो सीटें मिली हैं।

बिहार में एनडीए 30 सीटों पर जीत दर्ज करने में कामयाब हुई। चुनाव के परिणाम को लेकर समीक्षा का दौर जारी है। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सम्राट चौधरी ने गुरुवार को चुनाव प्रबंधन समिति के सदस्यों के साथ एक अहम बैठक की। बैठक के बाद उन्होंने कहा कि इस चुनाव में बिहार की जनता ने एनडीए को 75 प्रतिशत अंक दिए हैं। चुनाव प्रबंधन की टीम के अनुसार हमलोग चुनाव लड़े और 75 प्रतिशत अंक बिहार की जनता ने एनडीए को देने का काम किया। हमलोग जिन सीटों पर चुनाव हारे, उसकी समीक्षा कर रहे हैं। हम इस चुनाव में और बेहतर कर सकते थे। हमें भरोसा था कि इस चुनाव में बिहार की 40 में से 40 सीटें जीतेंगे, लेकिन हम 25 प्रतिशत सीट हारे, इसकी समीक्षा की जाएगी।

कहा जा रहा है कि सभी दल आंकड़े के जरिये विधायकों के क्षेत्र की समीक्षा कर रहे हैं और उनका लेखा जोखा तैयार कर रहे हैं। इसके अलावा भीतरघात और कर्तव्यहीनता करने वाले नेताओं को भी चिन्हित किया जा रहा है। माना जा रहा है कि जिन विधायकों के क्षेत्रों में प्रत्याशियों को कम मत मिले हैं, उनकी राहें आने वाले विधानसभा चुनाव में कठिन होने वाली हैं। सूत्रों का कहना है कि जीतने वाले प्रत्याशियों के क्षेत्र के विधायकों का लेखा-जोखा तैयार किया जाएगा।

बिहार कांग्रेस अध्यक्ष अखिलेश प्रसाद सिंह का कहना है कि लोकसभा चुनाव में कुछ गड़बड़ियां हुईं। पार्टी के नेताओं द्वारा अनुशासनहीनता के मामले सामने आ रहे हैं। ऐसे लोग जो पार्टी के खिलाफ गतिविधि में लिप्त हैं, उन पर अनुशासनात्मक कारवाई की जाएगी। इसकी जांच करवा रहा हूं। उन्होंने कहा कि चुनाव परिणाम की भी समीक्षा की जाएगी।