जायसवाल का दोहरा शतक, बुमराह के छह विकेट, भारत की कुल बढ़त 171

0
12

विशाखापत्तनम, 3 फरवरी (आईएएनएस) तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह ने शानदार गेंदबाजी करते हुए शनिवार को दूसरे टेस्ट के दूसरे दिन 45 रन पर छह विकेट झटके और इंग्लैंड को पहली पारी में 253 रन पर समेट कर भारत को 143 रन की महत्वपूर्ण बढ़त दिला दी। भारत ने अपनी दूसरी पारी में पांच ओवर में बिना कोई विकेट खोये 28 रन बना लिए हैं और उसकी कुल बढ़त 171 रन की हो गयी है।

दूसरी पारी में दोनों सलामी बल्लेबाज़ों ने भारत को अच्छी शुरुआत दिलाई है। भारत ने अपनी दूसरी पारी में पांच ओवर में बिना कोई विकेट खोये 28 रन बना लिए हैं और उसकी कुल बढ़त 171 रन की हो गयी है। स्टंप्स के समय यशस्वी जायसवाल 15 और कप्तान रोहित शर्मा 13 रन बनाकर क्रीज पर थे। दोनों ने तीन-तीन चौके लगाए हैं।

भारत की पहली पारी जहां यशस्वी जायसवाल के दोहरे शतक के नाम थी, वहीं मैच की दूसरी पारी जसप्रीत बुमराह की घातक गेंदबाजी के नाम रही। उन्होंने छह विकेट चटकाए और किसी भी इंग्लिश बल्लेबाज़ को टिकने नहीं दिया। कुलदीप ने भी उनका अच्छा साथ देते हुए तीन विकेट लिए। अश्विन, मुकेश और अक्षर ने निराश किया। सभी ने कम से कम 5 की इकॉनमी से रन दिए।

इंग्लैंड की तरफ़ से जैक क्रॉली ने अच्छी शुरुआत दी, लेकिन इसके बाद कोई भी बल्लेबाज़ टिककर नहीं खेल सका। अधिकतर को शुरुआत मिली, लेकिन भारतीय बल्लेबाज़ों की तरह वे भी इसे बड़ी पारी में तब्दील नहीं कर सके। क्रॉली ने 78 गेंदों में 11 चौकों और दो छक्कों की मदद से 76 रन बनाये। कप्तान बेन स्टोक्स ने 47 रन का योगदान दिया।

बुमराह ने स्टोक्स को बेहतरीन गेंद पर बोल्ड कर भारत को महत्वपूर्ण सफलता दिलाई। बुमराह ने जेम्स एंडरसन को पगबाधा कर इंग्लैंड का आखिरी विकेट भी लिया। बुमराह ने पहले टेस्ट के शतकधारी ओली पोप को बोल्ड किया और जो रुट, जानी बेयरस्टो, और टॉम हार्टली के विकेट भी लिए।

कप्तान रोहित शर्मा को जब विकेट की जरूरत पड़ी, उन्होंने बुमराह को मोर्चे पर लगाया और बुमराह ने अपने कप्तान को निराश नहीं किया। चाइनामैन गेंदबाज कुलदीप यादव ने बुमराह को अच्छा सहयोग देते हुए 71 रन पर तीन विकेट लिए। अक्षर पटेल ने 24 रन देकर ज़ैक क्रॉली का विकेट झटका। अनुभवी ऑफ स्पिनर अश्विन 12 ओवर में 61 रन देकर कोई विकेट नहीं ले पाए।

इससे पहले सुबह सलामी बल्लेबाज यशस्वी जायसवाल (209) दोहरा शतक जमाने में सफल रहे जबकि भारत पहले सत्र में पहली पारी में 396 रन बनाकर आउट हो गया। जायसवाल ने अपने नाबाद 179 रन के रात के स्कोर को टेस्ट में पहले दोहरे शतक में बदल दिया, हालांकि भारत केवल चार रन से 400 तक पहुंचने से चूक गया।

अपने छठे टेस्ट मैच में खेलते हुए, जायसवाल ने समान मात्रा में सावधानी और आक्रामकता का मिश्रण किया और तब भी खड़े रहे जब उनके टीम के साथी दूसरे छोर से गिर रहे थे। वह 102वें ओवर में पदार्पण कर रहे इंग्लैंड के स्पिनर शोएब बशीर की गेंद पर छक्का और चौका लगाकर टेस्ट क्रिकेट में दोहरा शतक बनाने वाले तीसरे सबसे युवा भारतीय बल्लेबाज बन गए।

अनुभवी तेज गेंदबाज जेम्स एंडरसन द्वारा आउट होने से पहले, उन्होंने 290 गेंदों में 19 चौकों और सात छक्कों की मदद से 209 रन की करियर की अविश्वसनीय सर्वश्रेष्ठ पारी खेली। लेकिन यह एक ऐसी सुबह थी जिसमें भारत के आखिरी चार विकेट केवल 32 रन पर गिर गए। एंडरसन ने तीन विकेट लिए जबकि बशीर और रेहान अहमद ने भी तीन-तीन विकेट लिए।

–आईएनएस

आरआर/