यमुना अथॉरिटी : 6 दुकानें 4.55 करोड़ में बिकी, 3.29 करोड़ था रिजर्व प्राइस

0
8

नोएडा, 7 जून (आईएएनएस)। यमुना प्राधिकरण में जमीन, दुकान और मकान के दाम आसमान छू रहे हैं। यमुना प्राधिकरण जब भी कोई योजना लॉन्च करता है तो उसके लिए अधिक आवेदन मिलते हैं। योजना का जो रिजर्व प्राइस रखा जाता है उससे ज्यादा रकम प्राधिकरण को मिलती है।

यमुना प्राधिकरण ने सेक्टर-22 डी में कमर्शियल दुकानों की एक योजना निकली थी। जिसमें 6 दुकान प्लॉट निकाले थे। नीलामी के जरिए इन दुकानों का आवंटन किया गया।

यमुना प्राधिकरण के अधिकारियों के अनुसार, इन छह दुकानों के लिए कुल 15 आवेदन आए थे। नीलामी प्रक्रिया के बाद शुक्रवार को सभी छह दुकानों का आवंटन कर दिया गया।

प्राधिकरण ने इन दुकानों के लिए कुल बिड प्रीमियम लगभग 3.29 करोड़ रखा था। जिसके बिड प्राइस में प्राधिकरण को 4.55 करोड़ रुपये प्राप्त हुए। इससे यमुना प्राधिकरण को लगभग 1.26 करोड़ का लाभ हुआ है।

गौरतलब है कि गौतम बुद्ध नगर में यमुना अथॉरिटी इस समय प्रदेश सरकार के लिए राजस्व में नंबर एक बनी हुई है। पहली तिमाही में अथॉरिटी ने अपने लाभ का 506 करोड़ का लक्ष्य रखा था। जिसके वह बेहद करीब पहुंच चुकी है। अभी तक अथॉरिटी को करीब 338 करोड़ मिले हैं।

यमुना अथॉरिटी का दावा है कि वह 30 जून से पहले पहले 100 नहीं बल्कि 120 प्रतिशत का टारगेट पूरा कर लेगी।

अथॉरिटी के सीईओ डॉक्टर अरुण वीर सिंह के मुताबिक, वह जल्द ही। लेफ़्टोवर प्लॉट्स को लॉन्च करने की योजना लेकर आ रहे हैं। इसके बाद वह कॉर्पोरेट, नर्सिंग होम और बैंक्विट हॉल की भी एक बड़ी योजना लेकर आएंगे।

साथ ही करीब 6,000 प्लॉट की नई योजना भी लॉन्च की जाएगी। इन सब के चलते दावा किया जा रहा है कि प्राधिकरण अपने तिमाही टारगेट को 100 नहीं बल्कि 120 प्रतिशत पूरा कर लेगा।