केरल के सभी स्‍कूलों में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के गुर सीखेंगे बच्चे

0
16

तिरुवनंतपुरम, 30 मई (आईएएनएस)। केरल के सभी स्कूलों में अब बच्‍चे आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) के गुर सीखेंगे। सभी स्कूलों में अगले महीने से शुरू होने वाले नए शैक्षणिक वर्ष में कक्षा सात के चार लाख से अधिक छात्र एआई की बारीकियों का अध्ययन करेंगे।

देश में यह पहली बार है जब केरल ने स्कूलों की पाठ्यपुस्तकों में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) को शामिल करने का फैसला किया है। सभी छात्रों को एक समान रूप से एआई सीखने का अवसर मिलेगा।

केरल इंफ्रास्ट्रक्चर एंड टेक्नोलॉजी फॉर एजुकेशन, द टेक्नोलॉजी आर्म ऑफ डिपार्टमेंट ऑफ जनरल एजुकेशन, स्कूलों में उपलब्‍ध कराए गए सभी लैपटॉप में सभी आवश्यक सॉफ्टवेयर उपलब्ध कराएगी।

‘कंप्यूटर विजन’ अध्याय की एक गतिविधि में छात्रों को अपना स्वयं का एआई प्रोग्राम बनाना होगा जो मानव चेहरे के भावों को पहचान सके।

यह प्रोग्राम किसी व्यक्ति के चेहरे पर सात अलग-अलग भावनाओं को पहचानने में सक्षम होगा।

कक्षा सात के अलावा नए शैक्षणिक वर्ष से कक्षा एक, तीन और पांच के लिए मलयालम, अंग्रेजी, तमिल और कन्नड़ माध्यमों में नई सूचना और संचार प्रौद्योगिकी की पाठ्यपुस्तकें दिखाई देंगी।

पाठ्यक्रम की रूपरेखा बच्चों की आलोचनात्मक सोच, विश्लेषणात्मक कौशल और समस्या-समाधान क्षमताओं के विकास पर जोर देती है, जो उनके समग्र विकास के लिए आवश्यक हैं।

इस संदर्भ में प्राथमिक स्तर के लिए आईसीटी पाठ्यपुस्तकों में तार्किक सोच और प्रोग्रामिंग कौशल के विकास पर विशेष जोर दिया गया है।

पाठ्यपुस्तकों में ‘पिक्टोब्लॉक्स’ पैकेज के साथ-साथ ‘स्क्रैच’ सॉफ्टवेयर को भी शामिल किया गया है, जो विजुअल प्रोग्रामिंग सिखाता है, ताकि छात्र प्रोग्रामिंग, एआई, रोबोटिक्स और इसी तरह की चीजों का अभ्यास कर सकें।

कक्षा एक और तीन के लिए नई आईसीटी पाठ्यपुस्तकों में फ्री एंड ओपन-सोर्स सॉफ्टवेयर पर आधारित शैक्षिक अनुप्रयोग शामिल हैं।

इनके अलावा, केरल इंफ्रास्ट्रक्चर एंड टेक्नोलॉजी फॉर एजुकेशन द्वारा विकसित एप्लीकेशन जैसे ट्रैफिक सिग्नल जिसके माध्यम से बच्चे यातायात नियमों के बारे में सीखेंगे, जिसे पाठ्यपुस्तक में शामिल किया गया है।

इसके अलावा, नई पाठ्यपुस्तकों में भाषा प्रयोगशालाएं भी शामिल हैं।

आईसीटी पाठ्यपुस्तक समिति के अध्यक्ष और केरल इंफ्रास्ट्रक्चर एंड टेक्नोलॉजी फॉर एजुकेशन के सीईओ के. अनवर सदाथ ने कहा, ”नई आईसीटी पाठ्यपुस्तकों में व्यावहारिक आईसीटी गतिविधियों को शामिल किया गया है, जो जीवन कौशल को पोषित करती हैं, साथ ही अन्य विषयों के अध्ययन में मदद करती हैं,और साइबर सुरक्षा और फर्जी समाचारों की पहचान पर जानकारी प्रदान करती है।”

सदाथ ने कहा, “केरल इंफ्रास्ट्रक्चर एंड टेक्नोलॉजी फॉर एजुकेशन ने मई से 80,000 माध्यमिक विद्यालय शिक्षकों के लिए एआई प्रशिक्षण शुरू किया है और अब तक 20,120 शिक्षकों ने प्रशिक्षण पूरा कर लिया है, और अन्‍य को भी प्रशिक्षित किया जाएगा।”

-आईएएनएस

एमकेएस/एसकेपी