नियंत्रण अपने हाथ में लेने के बाद पेटीएम की नैया पार लगा सकेंगे विजय शेखर शर्मा?

0
15

नई दिल्ली, 8 मई (आईएएनएस)। प्रबंधन के शीर्ष अधिकारियों के नौकरी छोड़ने, पेटीएम पेमेंट्स बैंक लिमिटेड (पीपीबीएल) के चुनिंदा कारोबारों पर आरबीआई के प्रतिबंध और ग्राहकों की ओर से लोन की किस्त न चुकाने के कारण कुछ भागीदार बैंकों के ऋण गारंटी समाप्त करने के कारण इस साल पेटीएम के शेयर 50 प्रतिशत से ज्यादा टूट चुके हैं।

एनएसई पर पेटीएम के शेयर बुधवार को पांच प्रतिशत गिरकर 317.15 रुपये प्रति शेयर पर बंद हुए जो इसका रिकॉर्ड निचला स्तर है। पिछला ऐतिहासिक निचला स्तर 318.05 रुपये भी इसी साल 16 फरवरी को दर्ज किया गया था।

जारी अनिश्चितताओं के बीच पेटीएम की प्रवर्तक कंपनी वन97 कम्युनिकेशंस का बाजार पूंजीकरण लगभग 2.5 अरब डॉलर घट गया है।

शेयर बाजार में सूचीबद्ध होते समय 2021 में डिजिटल भुगतान कंपनी का मूल्यांकन तकरीबन 20 अरब डॉलर था। उसके बाद से शेयरों की कीमतों में लगातार गिरावट आई है, खासकर इस साल जनवरी में केंद्रीय बैंक द्वारा पेटीएम पेमेंट्स बैंक के चुनिंदा कारोबारों पर प्रतिबंध लगाने के बाद से।

इस बीच पेटीएम में शीर्ष अधिकारियों के पद छोड़ने का क्रम जारी है।

खबरों के मुताबिक, यूपीआई एंड यूजर ग्रोथ वर्टिकल के मुख्य कारोबार अधिकारी (सीबीओ) अजय विक्रम सिंह, ऑफलाइन भुगतान के सीबीओ बिपिन कौल और उपभोक्ता भुगतान के सीबीओ संदीपन कश्यप “जारी पुनर्गठन” के तहत अपने पदों से हट गये हैं।

पेटीएम के अध्यक्ष एवं सीओओ भावेश गुप्ता के अचानक इस्तीफे के बाद इन वरिष्ठ अधिकारियों ने अपने पद छोड़े हैं। भावेश गुप्ता ने “निजी कारणों से” करियर में ब्रेक लिया है। वह इस साल के अंत तक सलाहकार की भूमिका में कंपनी से जुड़े रहेंगे।

खबरों के अनुसार, इनके अलावा, हाल के महीनों में कंपनी छोड़ने वाले अन्य वरिष्ठ अधिकारियों में पेटीएम पेमेंट्स बैंक के एमडी एवं सीईओ सुरिंदर चावला, वन97 कम्युनिकेशंस के पूर्व विपणन अधिकारी सुमित माथुर और कोराबार के वरिष्ठ उपाध्यक्ष प्रवीण शर्मा ने इस्तीफा दिया था।

इन सबके बीच, पेटीएम के सीईओ विजय शेखर शर्मा ने बड़े पैमाने पर मोर्चा संभाल लिया है। वह नये शीर्ष प्रबंधन के साथ सीधे काम कर रहे हैं।

कंपनी ने एक बयान में कहा, “हम पुनर्गठन की प्रक्रिया से गुजर रहे हैं और महत्वपूर्ण कारोबारों में टिकाऊ विकास सुनिश्चित करने के लिए प्रतिबद्ध हैं। यह पेटीएम के सीईओ के मार्गदर्शन में नई ऊर्जा के साथ आगे बढ़ने का संकेत है। ये बदलाव पेटीएम के शीर्ष प्रबंधन की अगली पंक्ति को मजबूत करने के हमारे रुख का हिस्सा हैं।”

कंपनी ने कहा है कि वह बड़ा और लाभकारी भुगतान एवं वित्तीय सेवा वितरण कारोबार बनाने के लिए अपने शीर्ष प्रबंधन का विस्तार कर रही है। उसने कहा, “ये मजबूत शीर्ष अधिकारी सीधे सीईओ तथा अन्य वरिष्ठ प्रबंधकों के साथ काम करेंगे और नियामक अनुपालन तथा टिकाऊपन सुनिश्चित करने के लिए समूह के ढांचे को मजबूत करने का काम करेंगे।”