एसएफआई के विरोध प्रदर्शन के बीच केंद्र ने केरल गवर्नर को जेड प्लस सुरक्षा दी

0
30

तिरुवनंतपुरम, 27 जनवरी (आईएएनएस)। केरल के राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान द्वारा केरल पुलिस की ‘चूक’ के खिलाफ शनिवार को दो घंटे तक धरना देने के कुछ घंटों बाद, केंद्र ने उन्हें जेड प्लस सुरक्षा कवर दी है। इस बात का खुलासा खान के ऑफिस ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट के जरिए किया।

शनिवार सुबह खान तिरुवनंतपुरम से करीब 70 किलोमीटर दूर एक समारोह में जा रहे थे। जब उनका काफिला नीलामेल पहुंचा तो करीब दो दर्जन एसएफआई सदस्य काले झंडे लहराते सड़क किनारे नारे लगाते दिखे।

यह देखकर खान ने अपनी कार रोकी और पुलिस के खिलाफ अपना गुस्सा जाहिर करते हुए प्रदर्शनकारियों की ओर चल दिए। फिर वह सड़क किनारे चाय की दुकान से लाई गई एक कुर्सी पर बैठ गए और अपने सचिव मोहन से तुरंत पुलिस आयुक्त को बुलाने के लिए कहा।

नाराज खान ने कहा, “यदि नहीं, तो प्रधानमंत्री को बुलाओ। इसके लिए आप (वहां मौजूद पुलिस अधिकारियों पर उंगली उठाते हुए) जिम्मेदार हैं, मैं यहां से नहीं जाऊंगा। आप उन्हें (प्रदर्शनकारियों को) संरक्षण दे रहे हैं। आप कानून तोड़ रहे हैं। अगर आप (पुलिस) नहीं, तो कानून कौन बनाये रखेगा।

खान इस बात से नाराज थे कि उनके काफिले के गुजरने से पहले पुलिस ने प्रदर्शन कर रहे एसएफआई कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार नहीं किया। खान ने कहा कि अगर मुख्यमंत्री के वहां से गुजरने के दौरान ऐसी कोई हरकत हुई होती तो पुलिस प्रदर्शनकारियों को तुरंत गिरफ्तार कर लेती।

खान ने भी अपना रुख स्पष्ट कर दिया कि जब तक प्रदर्शनकारियों को हिरासत में नहीं लिया जाता, वह नहीं हटेंगे।

करीब 90 मिनट बाद पुलिस ने उन्हें बताया कि उन्होंने प्रदर्शनकारियों के खिलाफ गैर-जमानती आरोपों के तहत मामला दर्ज कर लिया है और उन्हें हिरासत में ले लिया गया है। इसके बाद राज्यपाल उठकर उस कार्यक्रम के लिए चले गए जहां वह मुख्य अतिथि थे।

मीडिया द्वारा धरने को लाइव कवर करने के साथ, खान को केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, उपराष्ट्रपति जगदीप धनखड़ और कुछ अन्य लोगों का फोन आया और इसके तुरंत बाद उनके आधिकारिक सोशल मीडिया अकाउंट पर एक पोस्ट दिखाई दी कि केंद्र ने उन्हें जेड प्लस सिक्योरिटी प्रदान करने का फैसला किया है।

उधर, नाराज एसएफआई आंदोलनकारियों ने घोषणा की है कि उनका विरोध जारी रहेगा।

इससे पहले, खान के कार्यक्रम में पहुंचने से ठीक पहले पुलिस ने सभा स्थल के पास से एसएफआई कार्यकर्ताओं को हिरासत में ले लिया|

इस बीच, अनुभवी सीपीआई-एम नेता और सत्तारूढ़ वाम दल के संयोजक ईपी जयराजन ने कहा कि एक राज्यपाल को इस तरह व्यवहार करते देखना अजीब है।

जयराजन ने कहा, “हमने ऐसा पहले कभी नहीं देखा। क्या किसी मंत्री या राज्यपाल के खिलाफ काले झंडे लहराना पहली बार हो रहा है? मेरा मानना है कि उन्हें वहां लंबे समय तक बैठना चाहिए था। इस गैर-जिम्मेदाराना व्यवहार के लिए केंद्र जिम्मेदार है।’ उन्हें (खान को) केरल से वापस बुला लिया जाना चाहिए।”

राज्य के शिक्षा मंत्री वी शिवनकुट्टी ने भी खान की आलोचना करते हुए कहा कि यह राज्यपाल के दिखावे के अलावा और कुछ नहीं है।

–आईएएनएस

एसकेपी/