पंजाब में कांग्रेस छह सीटों पर आगे

0
6

चंडीगढ़, 4 जून (आईएएनएस)। पंजाब में 13 लोकसभा सीटों के लिए मंगलवार को जारी मतगणना के अब तक के रुझानों में कांग्रेस छह सीटों पर आगे चल रही है, जबकि राज्य की सत्तारूढ़ आप चार सीटों पर बढ़त बनाये हुए है। शिरोमणि अकाली दल अपनी पारंपरिक सीट बठिंडा में आगे है।

पहले दौर से ही दो निर्दलीय उम्मीदवार लगातार आगे चल रहे हैं। उनमें एक खडूर साहिब से ‘वारिस पंजाब दे’ के प्रमुख सिख कट्टरपंथी अमृतपाल सिंह हैं जो राष्ट्रीय सुरक्षा अधिनियम के तहत असम जेल में बंद हैं। फरीदकोट (आरक्षित) से प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के हत्यारों में से एक के बेटे सरबजीत सिंह भी निर्दलीय के रूप में आगे चल रहे हैं। दोनों ने राज्य में एक “कट्टरपंथी” लहर पैदा की है।

निर्वाचन आयोग के अनुसार, अब तक का सबसे बड़ा अंतर पूर्व मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी का है, जो जालंधर-आरक्षित सीट से एक लाख वोटों से आगे चल रहे हैं। सबसे कम अंतर फिरोजपुर में आप उम्मीदवार जगदीप सिंह काका बराड़ का है, जो 429 वोटों से आगे हैं।

कांग्रेस के सुखजिंदर रंधावा गुरदासपुर सीट पर भाजपा के दिनेश सिंह बब्बू से आगे चल रहे हैं। पार्टी के मौजूदा सांसद गुरजीत सिंह औजला आप के कुलदीप सिंह धालीवाल और भाजपा के तरनजीत सिंह संधू से अमृतसर सीट पर आगे हैं।

पटियाला में कांग्रेस के धर्मवीर गांधी आगे चल रहे हैं और लुधियाना में कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अमरिंदर सिंह राजा वारिंग भाजपा के रवनीत सिंह बिट्टू से आगे चल रहे हैं। अकाली दल की हरसिमरत कौर बादल, जिन्होंने मोदी के नेतृत्व वाली दोनों केंद्र सरकारों में मंत्रालय संभाले हैं, राजनीतिक रूप से महत्वपूर्ण बठिंडा सीट पर आगे है, जिसे राज्य की कपास बेल्ट के रूप में भी जाना जाता है।

रुझानों के अनुसार, आम आदमी पार्टी (आप) होशियारपुर (आरक्षित), आनंदपुर साहिब और संगरूर सीटों से आगे चल रही है।

सीमावर्ती राज्य में इस बार भाजपा और उसके पूर्व सहयोगी शिरोमणि अकाली दल (एसएडी) ने अलग-अलग चुनाव लड़ा था। सभी 13 सीटों पर बहुकोणीय मुकाबला है और 328 उम्मीदवार मैदान में हैं।

भाजपा ने 2019 में अकाली दल के साथ गठबंधन में तीन लोकसभा सीटों (अमृतसर, गुरदासपुर और होशियारपुर) पर चुनाव लड़ा था, जबकि अकाली दल ने शेष 10 सीटों पर चुनाव लड़ा था।

उस समय, राज्य की सत्तारूढ़ कांग्रेस ने आठ सीटें – अमृतसर, फरीदकोट, आनंदपुर साहिब, जालंधर, खडूर साहिब, लुधियाना, फतेहगढ़ साहिब और पटियाला सीटें जीती थीं। जबकि अकाली दल ने बठिंडा और फिरोजपुर और भाजपा ने गुरदासपुर और होशियारपुर सीटें जीती थीं। आप ने संगरूर से जीत हासिल की थी।