लोकसभा चुनाव : उत्साहित भाजपा की निगाहें राज में क्लीन स्वीप पर, कांग्रेस के बड़े नेता चुनाव लड़ने के इच्छुक नहीं

0
10

जयपुर, 13 फरवरी (आईएएनएस)। राजस्थान में सत्तारूढ़ भाजपा और विपक्षी कांग्रेस ने आगामी लोकसभा चुनाव के लिए अपनी-अपनी तैयारियां शुरू कर दी हैं। जहां कांग्रेस ने कथित तौर पर 16 फरवरी को दिल्ली में स्क्रीनिंग कमेटी की बैठक निर्धारित की है, वहीं भाजपा की भी 17-18 फरवरी को राष्ट्रीय राजधानी में राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक होने वाली है।

हालांकि, कांग्रेस और भाजपा के पार्टी नेताओं के नजरिए में बड़ा अंतर है।

जहां 9 फरवरी को हुई समिति की बैठक में कांग्रेस के अधिकांश वरिष्ठ नेताओं ने लोकसभा चुनाव लड़ने में अनिच्छा व्यक्त की है, वहीं भाजपा नेता चुनाव लड़ने के इच्छुक हैं, भले ही उन्हें कहीं से भी मैदान में उतारा जाए।

राजस्थान में पिछले दो आम चुनावों में कांग्रेस को कोई फायदा नहीं हुआ, क्योंकि 2019 में 24 सीटें जीतने से पहले भाजपा ने 2014 में सभी 25 सीटें जीत लीं, जबकि एक सीट उसकी सहयोगी आरएलपी के पास चली गई।

इस सप्ताह के अंत में दिल्ली में होने वाली दोनों पार्टियों की बैठक के बाद लोकसभा चुनाव को लेकर स्थिति साफ हो जाएगी।

कांग्रेस सूत्रों के मुताबिक, पार्टी पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, पूर्व विधानसभा अध्यक्ष सी.पी. जोशी, वरिष्ठ नेता गोविंद सिंह डोटासरा, हरीश चौधरी, सचिन पायलट, अशोक चांदना, भंवर जितेंद्र सिंह, रघुवीर मीणा, रामलाल जाट, बृजेंद्र ओला, प्रताप सिंह खाचरिया लोकसभा चुनाव लड़ेंगे।

कांग्रेस के प्रदेश प्रभारी सुखजिंदर सिंह रंधावा ने खुद जयपुर में कहा था कि पार्टी इन नेताओं को आम चुनाव में उतारकर कड़ी टक्कर देना चाहती है।

हालांकि, सूत्रों के मुताबिक, इनमें से ज्यादातर बड़े नाम कथित तौर पर चुनाव लड़ने के इच्छुक नहीं हैं।

जबकि कुछ ने कथित तौर पर स्वास्थ्य कारणों का हवाला दिया है, दूसरों ने कहा है कि वे ‘नई पीढ़ी को आगे लाना’ चाहते हैं।

अब 16 फरवरी को होने वाली बैठक में यह देखना दिलचस्प होगा कि कांग्रेस आलाकमान इन नेताओं को चुनाव लड़ने के लिए कहता है या नहीं।

इस बीच, सबसे पुरानी पार्टी के विपरीत, भाजपा नेता राजस्थान की सभी 25 सीटें जीतने को लेकर उत्साहित और आश्‍वस्त हैं।

पूर्व राज्यसभा सांसद नारायण पंचेरिया ने कहा कि पार्टी अपनी विकसित भारत संकल्प यात्रा और गांव चलो अभियान जैसी पहलों के कारण क्लीन स्वीप करने को लेकर आश्‍वस्त है।

उन्‍होंने कहा, “सीएम भजन लाल शर्मा सहित सभी वरिष्ठ नेता गांवों का दौरा कर रहे हैं और ग्रामीणों के साथ स्थानीय मुद्दों पर चर्चा कर रहे हैं। वे विभिन्न केंद्रीय योजनाओं के लाभार्थियों से मुलाकात कर रहे हैं। हम गांवों में किसानों को शामिल करते हुए चौपाल लगा रहे हैं। वास्तव में, लोग पहले से ही ‘तीसरी बार मोदी सरकार’ का नारा लगा रहे हैं।”

यह पूछे जाने पर कि क्या लोकसभा चुनाव में नए चेहरे उतारे जाएंगे, पंचेरिया ने कहा, ”इस पर पार्टी का शीर्ष नेतृत्व फैसला करेगा और स्थानीय नेता फैसले का पालन करेंगे। हमारी एक अनुशासित पार्टी है और हम वरिष्ठ नेताओं द्वारा जारी दिशानिर्देशों का पालन करते हैं।”