‘सीक्रेट्स ऑफ द बुद्धा रेलिक्स’ में खुलेगा ‘बुद्ध के अवशेषों का रहस्य’

0
20

मुंबई, 28 जनवरी (आईएएनएस)। हाल ही में रिलीज हुई डॉक्यूमेंट्री ‘सीक्रेट्स ऑफ द बुद्धा रेलिक्स’ का निर्देशन करने वाले निर्देशक राघव जैरथ ने कहा कि यह शो बुद्ध अवशेषों के निर्माण के पीछे के कारण और वे बौद्ध धर्म के प्रसार का प्रवेशद्वार कैसे बने, इस संबंध में सवालों के जवाब देता है।

उन्होंने यह भी कहा कि डॉक्यूमेंट्री की तीसरी किस्त पर काम चल रहा था, जबकि दूसरी किस्त ‘सीक्रेट्स ऑफ द कोहिनूर’ की शूटिंग चल रही थी।

‘बुद्ध अवशेषों का रहस्य’ गौतम बुद्ध के अंतिम दिनों के आसपास की प्राचीन किंवदंतियों और बौद्ध धर्म के केंद्र के आसपास के अवशेषों पर केंद्रित है।

शो के बारे में बात करते हुए राघव ने आईएएनएस को बताया, “‘सीक्रेट्स ऑफ द बुद्धा रिलेक्स’ का विषय ‘सीक्रेट्स ऑफ द कोहिनूर’ से पहले भी हमारे पास था। हम इस विषय पर शोध कर रहे थे, लेकिन उस समय शोध इतना गहरा नहीं था कि कोई कहानी बुनी जा सके। ‘सीक्रेट्स ऑफ द कोहिनूर’ की रिलीज के बाद हमने इस विषय की गहराई से जांच की।”

उन्होंने आगे उल्लेख किया कि हालांकि हर कोई बुद्ध और उनकी शिक्षाओं के बारे में जानता है, लेकिन कोई भी उनके अंतिम दिनों और अवशेषों के निर्माण के बारे में नहीं जानता है।

उन्होंने आगे कहा, “वह क्यों चाहते थे कि अवशेष बनें? जब वह धर्म की अवधारणा या मूर्ति पूजा में विश्‍वास नहीं करते थे तो वह क्यों चाहते थे कि अवशेष लोगों से जुड़े रहें? इन विचारों ने हमें चकित कर दिया। दूसरी बात यह है कि बुद्ध ने ज्यादातर यात्राएं आधुनिक बिहार, उत्तर प्रदेश के कुछ हिस्सों और ओडिशा की सीमाओं के बीच कीं।”

उन्होंने कहा, “वह कभी चीन या जापान नहीं गए। इसलिए, ये अवशेष महत्वपूर्ण हो गए क्योंकि उन्होंने एक अलग दुनिया के द्वार के रूप में काम किया और परिणामस्वरूप उनकी शिक्षाओं का प्रसार हुआ।”

फ्राइडे स्टोरीटेलर्स के नीरज पांडे द्वारा निर्मित और मनोज बाजपेयी द्वारा होस्ट किया गया, ‘सीक्रेट्स ऑफ द बुद्धा रेलिक्स’ डिस्कवरी प्‍लस पर उपलब्ध है और 26 फरवरी, 2024 को डिस्कवरी चैनल पर आएगा।

–आईएएनएस

एमकेएस/एसजीके