असम के सीएम बोले : अजमल, हुसैन को वोट देना ‘नर गाय से दूध की उम्मीद’ करने जैसा

0
17

गुवाहाटी, 3 मई (आईएएनएस)। असम के मुस्लिम बहुल लोकसभा क्षेत्र धुबरी में चुनाव प्रचार के दौरान मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने गुरुवार को ऑल इंडिया यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट (एआईयूडीएफ) के मौजूदा सांसद बदरुद्दीन अजमल और कांग्रेस उम्मीदवार रकीबुल हुसैन पर जमकर निशाना साधा।

मुख्यमंत्री ने कहा, अजमल और हुसैन के लिए वोट करना “नर गाय से दूध की उम्मीद” करने जैसा होगा।

उन्होंने दावा किया कि सात मई को आम चुनाव के तीसरे चरण में असम गण परिषद (एजीपी), एआईयूडीएफ और कांग्रेस के उम्मीदवारों के बीच त्रिकोणीय मुकाबला होगा।

गोलकगंज, बिलासीपारा और गौरीपुर में सार्वजनिक कार्यक्रमों में मुख्यमंत्री सरमा ने पुष्टि की कि भाजपा की सहयोगी एजीपी उन क्षेत्रों में समर्थन हासिल कर रही है, जहां पहले लोगों के बीच उनका कोई प्रभाव नहीं था।

गोलकगंज में एक सार्वजनिक बैठक में उन्होंने क्षेत्र में एआईयूडीएफ और कांग्रेस के समर्थन में गिरावट पर जोर देते हुए कहा, “लोगों को एहसास हो गया है कि धुबरी में अजमल का समय खत्म हो गया है और उन्हें रकीबुल की जरूरत नहीं है।”

13 उम्मीदवारों और 26 लाख से अधिक मतदाताओं के साथ राजनीतिक दौड़ ज्यादातर एआईयूडीएफ के बदरुद्दीन अजमल, कांग्रेस के रकीबुल हुसैन और एजीपी के जावेद इस्लाम के बीच है।

सीएम सरमा ने कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा की ”माफिया राज” वाली टिप्पणी को लेकर उन पर कटाक्ष किया।

उन्होंने कहा, “प्रियंका गांधी ने कांग्रेस शासन के दौरान माफिया राज के दिन नहीं देखे हैं। आज राज्य में न कोई बम विस्फोट है, न कोई गोली चल रही है, न कोई उल्फा है, न कोई एनडीएफबी, सिर्फ रोकीबुल हुसैन का माफिया राज था।”

मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि प्रियंका और राहुल गांधी को असम के लोगों के बीच कोई समर्थन नहीं है।

सरमा के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए कांग्रेस उम्मीदवार रकीबुल हुसैन ने असम के मुख्यमंत्री की आलोचना करते हुए कहा कि मौजूदा लोकसभा चुनाव के पहले चरण के मतदान के बाद उन्होंने अपना रुख बदल लिया है।

हुसैन ने दावा किया कि धुबरी में सरमा की नई रुचि उनकी इस मान्यता से पैदा हुई कि भाजपा को अन्य समुदायों से पर्याप्त समर्थन नहीं मिल रहा है।