एफपीआई ने पिछले तीन दिनों में 24,000 करोड़ रुपये की इक्विटी बेची

0
24

नई दिल्ली, 20 जनवरी (आईएएनएस)। 17 जनवरी से एफपीआई की रणनीति में अचानक बदलाव आया और वे नकदी बाजार में बड़े पैमाने पर विक्रेता बन गए। 17-19 जनवरी के बीच तीन दिनों में एफपीआई ने 24,147 करोड़ रुपये की इक्विटी बेची। जियोजित फाइनेंशियल सर्विसेज के मुख्य निवेश रणनीतिकार वीके विजयकुमार ने ये बात कही है।

एफपीआई के विक्रेता बनने के दो मुख्य कारण हैं।

एक, 10 साल की यील्ड के साथ अमेरिकी बांड की उपज 3.9 प्रतिशत के हालिया स्तर से बढ़कर 4.15 प्रतिशत हो गई, जिससे उभरते बाजारों से पूंजी बहार निकलना शुरू हो गया। यह समझना महत्वपूर्ण है कि ताइवान, दक्षिण कोरिया और हांगकांग जैसे अन्य उभरते बाजारों में भी एफपीआई ने बिकवाली की।

दूसरा, चूंकि भारत में वैल्यूएशन ऊंचा है, एफपीआई ने बड़े पैमाने पर बिक्री बढ़ाने के लिए एचडीएफसी बैंक के उम्मीद से कम नतीजों का बहाना बनाया। उन्होंने कहा, एफपीआई ने अपनी शॉर्ट पोजीशन भी बढ़ाई।

लेकिन बाजार को नीचे धकेलने की एफपीआई की रणनीति काम नहीं कर रही है। उनकी बिक्री का मुकाबला डीआईआई और व्यक्तिगत निवेशकों द्वारा खरीदारी से हो रहा है। उन्होंने कहा कि एफपीआई इस महीने आईटी प्रबंधकों की तीसरी तिमाही के नतीजों के बाद आईटी स्टॉक खरीद रहे हैं, जिसमें सेक्टर में मांग में सुधार की उम्मीद का संकेत दिया गया है।

–आईएएनएस

एसकेपी